Current View
डरना नहीं पर...
डरना नहीं पर...
₹ 150+ shipping charges

Book Description

 डरना नहीं पर... डा. राजेश्वर उनियाल की लिखी हुई दस डरावनी कहानियों का संकलन है । इसमें लेखक ने विभिन्न रोमांचक व अकल्पनीय बिषयों पर जिन कहानियों को प्रस्तुत किया है, उनमें से लेखक के कथानुसार कुछ कहानियां काल्पनिक हैं तो कुछ लोक वर्णित हैं तो कुछ कहानियां लेखक के जीवन में साक्षात घटित हैं । लेखक का बचपन जिस उतराखंड की सुरम्य वादियों में बीता है, वहाँ के लोक जीवन में ऐसी अनहोनी घटनाएं घटना सामान्य बात है । इसलिए लेखक ने अपनी कहानियों में लौकिक व अलौकिक घटनाओं को काल्पनिक एवं यथार्थ के आधार पर बहुत ही रोचक, सरल एवं धाराप्रवाह शैली में प्रस्तुत किया है । परन्तु अपने अनुभव के आधार पर लेखक यह बताते हुए नहीं भूलते कि आप इन कहानियों को यदि रात में पढ रहे हों तो कमरे की बत्ती अवश्य जलाए रखना...