Current View
कुछ अनकहे अल्फ़ाज़ कुछ अधूरे ख़्वाब़
कुछ अनकहे अल्फ़ाज़ कुछ अधूरे ख़्वाब़
$ 0+ shipping charges

Book Description

यह पुस्तक लेखिका की सर्वप्रथम प्रकाशित पुस्तक है जिसमें उन्होंने विभिन्न समय पर लिखे गए अपनी कुल 18 कहानियों का संग्रह प्रस्तुत किया है। ये वे कहानियाँ  है जो पहले हिन्दी ब्लाग में प्रकाशित हो चुकी हैं और पाठकों द्वारा सराहा भी गया। इन कहानियों का केन्द्रीय विषय प्रेम ही है जो अकसर अनकहा है परंतु कहानी के अंत तक जिसको अपनी मंजिल मिल जाती हैं। कुछ कहानिया वियोगात्मक अंत वाली भी हैं। परंतु इन कहानियों के पात्र अत्यंत खास हैं। वे नित्य संघर्षरत हैं। अकसर हालात को अपनी तरफ झुका ही लेते हैं।कहानियों की भाषा जानबूझकर सीधी और सपाटबयानी रखी गई है ताकि  केवल विद्वजन ही नहीं थोड़ा बहुत हिन्दी जानने वाले भी इसका भरपूर आनंद उठा सकें।