Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Ameer Kisan Banne Ke 7 Niyam / अमीर किसान बनने के 7 नियम Vichar Badaliye Aur Kheti Se Aay Badhaye / विचार बदलिए और खेती से आय बढ़ाइए

Author Name: B. P. Singh, Dr. Nandini Shukla, Dr. J. P. Singh | Format: Paperback | Genre : Business, Investing & Management | Other Details

केंद्र सरकार ने वर्ष 2022 तक किसानो की आय दोगुना करने का लक्ष्य रखा है। किसानों की आय बढ़ाने के लिए, सरकार अपने तरीकों और संसाधनों से कड़ी मेहनत कर रही है। चूंकि इस मिशन के मुख्य लक्ष्य किसान हैं, अतः सबसे महत्वपूर्ण यह है कि किसानों को उनकी आय बढाने हेतु उचित मार्गदर्शन प्राप्त हो जिससे वे सही दिशा में कार्य करते हुए अपनी आय बढ़ा सकें। यह पुस्तक, किसानों की आय बढ़ाने के वास्तविक एवं व्यवहारिक नियमों को बताती है। इस पुस्तक के लेखकों ने कृषि से समृद्धि हासिल करने के “7” प्रमुख नियमों को चिन्हित कर उन्हें इस पुस्तक में विस्तार से बताया है। जिनका पालन कर किसान अपनी आय बढ़ा सकते हैं।

Read More...
Paperback
Paperback 165

Inclusive of all taxes

Delivery by: 26th Apr - 29th Apr

Also Available On

बी. पी. सिंह, डॉ. नंदिनी शुक्ला, डॉ. जे. पी. सिंह

बी. पी. सिंह नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय से पादप रोग विज्ञान विषय में परास्नातक एवं गोल्ड मेडलिस्ट हैं। उन्हें कृषि के विभिन्न क्षेत्रों में 13 वर्षों से अधिक का अनुभव है। कृषि क्षेत्र में अपने लम्बे अनुभवों से उन्होंने कृषकों की उनकी आय बढाने के 7 नियमों की पहचान कर इस पुस्तक में विस्तार से बताया है। यह उनकी तीसरी पुस्तक है। इसके पूर्व उनकी दो पुस्तकें “Doubling Farmers’ income by 2022, ways and means” और “जीरो से गोल्ड मेडलिस्ट” प्रकाशित हो चुकी है।

डॉ. नंदिनी शुक्ला पादप रोग विज्ञान विषय में जी. बी. पन्त कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, पंतनगर से पी. एच. डी. एवं पी. डी. ऍफ़. हैं। उन्होंने कृषि में महत्वपूर्ण शोध कार्य किये हैं। इस पुस्तक को पूरा करने में उनके विभिन्न महत्वपूर्ण सुझावों एवं लेखन का बड़ा योगदान है।

डॉ. जे. पी. सिंह पादप रोग विज्ञान विषय में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से पी. एच. डी. (एस. आर. ऍफ़. भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद्, नई दिल्ली) एवं नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय से पादप रोग विज्ञान विषय में परास्नातक एवं गोल्ड मेडलिस्ट हैं। उन्होंने कृषि में महत्वपूर्ण शोध कार्य किये हैं। कृषि क्षेत्र के अपने अनुभवों द्वारा उन्होंने इस पुस्तक के लेखन में बड़ा योगदान दिया है।

Read More...