Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Avmanana Jeevan Par Bhaari / अवमानना जीवन पर भारी कोरोना संक्रमण से हुई तबाही का दोषी कौन (Corona Sankraman se hui Tabahi ka Doshi Kaun)

Author Name: Sunil Soni | Format: Paperback | Genre : Letters & Essays | Other Details

देश मे प्रतिदिन कोरोना का संक्रमण बड़ रहा है, रोज मौत का खेल देखते हुए भी लोग संभल नहीं रहे है। अस्पतालों मे हाहाकार मचा हुआ है। पूरे देश मे समाजसेवी दल तन, मन और धन से लोगों की सेवा कर रहे हैं लेकिन लोग आज भी समझ नहीं रहे है।

संक्रमण से बचने के लिए टीका तो बन गया है, लेकिन उसको पूरे देश की जनता में जल्द से जल्द लगा दिया जाए यह संभव नहीं है। इस महामारी को नियंत्रित करने के लिये देश को अभी कई वर्ष लग सकते हैं। हमें पूरी सजगता से, ईमानदारी से और शांति के साथ जीवन जीने की आवश्यकता है। सावधानी हटी और दुर्घटना घटी।

यदि देश के लोग बस एक बात मान लें मास्क का उपयोग ईमानदारी से और सही तरह से करें, जितना जरूरी हो उतना ही घर से बाहर निकले और गरीबों की हर समय मदद करें तो हम कोरोना के संक्रमण से दूर रह सकते है और देश मे इस तरह के हाहाकार को रोक सकते हैं। लेकिन कुछ लोगों ने तो इस आपदा को अवसर मे कुछ इस तरह बदला है कि दैनिक उपयोग की सामाग्री की कीमत चार गुना तक बड़ा दी। बाज़ार मे मेंहगाई चरम सीमा तक पहुँच रही है। लोग सरकार के डर से चोरी छुपकर जरूरत का समान भी ब्लैक मे बेच रहे है। अब इस तरह की हरकत करने वाले देश से इस बीमारी को जल्द खत्म कैसे किया जा सकता है। जिस सामग्री की जरूरत ज्यादा है उसकी कीमत कम करने के बदले बड़ा दी जा रही है, अब चाहे वो फूड सामग्री हो, दवा हो या फिर कोई उपकरण।

भारत की जनता पर प्रधानमंत्री को विश्वास था कि जनता उनका कहना मानेगी और इसीलिए भारत में lockdown से इस बीमारी को नियंत्रित करने का प्रयास किया गया। देश के पूरे system ने अवमानना की और उस अवमानना का परिणाम बहुत दुखद निकालकर सामने आया।

Read More...
Paperback
Paperback 249

Inclusive of all taxes

We’re experiencing increased delivery times due to the restriction of movement of goods during the lockdown.

Also Available On

सुनील सोनी

सुनील सोनी इस पुस्तक के लेखक हैं। आपका जन्म 20 मई 1988 को मध्यप्रदेश मे हुआ। आप बचपन से ही रचनात्मक, लगनशील एवं अपने कर्तव्य के प्रति बहुत गंभीर है। आपके द्वारा लिखी पुस्तक “वेबसाइट बनाना सीखिये” देश के युवाओ के लिए बहुत लाभदायक है। इनके द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी, युवाओं को प्रोत्साहन, रोजगार के प्रति जागरूकता एवं ग्रामीण क्षेत्र में सामाजिक विकास आदि से सम्बंधित कार्य निरंतर किये जा रहे हैं। आपका सम्पूर्ण अध्ययन-अध्यापन आरोन जिला- गुना मध्यप्रदेश में हुआ है। यह सामाजिक विकास कार्यो में भी विशेष रूचि रखते हैं एवं Youth Can Do Welfare Society के अध्यक्ष हैं। यह युवाओं को प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ाना चाहते हैं एवं देश के युवाओं को आधुनिक सोच के साथ कदम से कदम मिलाकर चलते देखना चाहते हैं।

Read More...