Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

CHAYANIKA / चयनिका

Author Name: PRATIBHA SHRIVASTAVA | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

प्रतिभा श्रीवास्तव ने एक असाधारण जीवन जिया। एक लेखक, नाटककार, कवि, चित्रकार, शिक्षक और पर्यटक होने के अपने दशकों के अनुभव से उनमें दुनिया, समाज तथा जीवन की अंतर्दृष्टि का विकास हुआ। अपनी कविताओं में, वह अपने अनुभवों की परख गहन बुद्धि, गहराई और ज्ञान के साथ करती हैं और फिर भाषा की भव्यता के साथ इस अंतर्दृष्टि को प्रस्तुत करती हैं। यह रचनाएँ जीवन पथ के उतार - चढ़ाव; साधारण से असाधारण तक का आभास कराती हैं। स्मृति, कल्पना, उदासी, खुशी, हार और जीत की आग में तपी कविताएँ -  आत्मसम्मान के साथ जीवन जीने और एक दूसरे से सद्भाव रखने का संदेश देती हैं।

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 220

Inclusive of all taxes

Delivery by: 10th Dec - 14th Dec

Also Available On

प्रतिभा श्रीवास्तव

प्रतिभा श्रीवास्तव एक स्वतंत्र, उत्साही, संवेदनशील आत्मा थीं । उन्होंने एक अद्वितीय बाल-शिक्षा केन्द्र की स्थापना की, भारत के आंगन-बाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए संदर्शिका तैयार करने में मदद दी, तथा बच्चों के लिए पुस्तकें प्रकाशित कीं । शिक्षा तथा लोकप्रिय पत्रिकाओं, रेडियो और टेलीविजन के लिए अपने अनेक लेख, नाटक और प्रस्तुतियों के साथ उन्होंने हिंदी साहित्य में योगदान दिया। उन्होंने केंद्रीय संस्थानों के लिए लेखकों, मीडिया विशेषज्ञ/समीक्षक के पैनलों पर कार्य किया । वाशिंगटन में कुछ सालों तक उन्होंने अमेरिकी अधिकारियों को विदेशी भाषा मान्यता के लिए हिंदी भी सिखाई । परिवार के साथ कनाडा में अपने अंतिम वर्षों को उन्होंने सामाजिक कार्य, चित्रकला, और ध्यान के लिए समर्पित किया।

Read More...