Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Din Abhi Dhala Nahi / दिन अभी ढला नहीं

Author Name: Parakram Singh | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

किताब के बारें मे -

श्रुति और अदित्या, दो नाम जो उस एक वन बीएचके फ्लैट के बाहर लगी नेम-प्लेट पर जचे रहते थे... अब जो यह दोनों अलग होने वाले थे तो क्या उस नेम प्लेट के भी आधे टुकड़े करेंगे ?

एक शहरी ज़िंदगी मे उलझे दो लोगों की कहानी, जिनके रिश्ते की शाम तो ढल रही थी, लेकिन फिर भी उम्मीद अभी बाकी थी, क्यूंकी दिन अभी तक ढला नहीं था ।

Read More...
Paperback
Paperback + Read Instantly 80

Inclusive of all taxes

Delivery by: 8th Aug - 11th Aug
Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

पराक्रम सिंह

लेखक के बारें मे –

पराक्रम सिंह 24 वर्षीय युवा लेखक हैं, ‘दिन अभी ढला नहीं’ उनकी पहली हिन्दी लघु उपन्यास हैं । शिक्षा से वह कम्प्युटर साइन्स इंजीनियर हैं और लिखने का बेसिक स्क्रीनप्ले राइटिंग कोर्स उन्होने एफ़टीआईआई पुणे के संयोजन से किया है । पेशे से उन्होने बैंग्लोर मे आईबीएम मे आईटी इंजीनियर के तौर काम किया हैं और साथ ही साथ प्रॉफेश्नल कम्प्युटर टीचर भी रह चुके है । लिखने के अलावा उन्हे संगीत मे भी रुचि है और गिटार की तरफ भी उनका झुकाव हैं । अभी वह अपनी अँग्रेजी नावेल पर साथ ही साथ एक औडियो शो पर भी काम कर रहे हैं ।

उनसे जुड़ने के लिए आप उन्हे मेल लिख सकते है –

parakram.fl@gmail.com

या फिर उन्हे इन्सटाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं – 

instagram.com/parakram4

Read More...