Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Eeshvar / ईश्वर कौन, कहाँ और क्यों

Author Name: Sanjeev Sareen | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

हम कौन हैं? कहाँ से आए हैं? क्यों आये हैं? ऐसे बहुत से प्रश्न हैं जो हम से सम्बन्धित हैं| ऐसे ही प्रश्न ईश्वर पर हैं|

वह कौन है? उसे कैसे पाएं और क्यों?

एक आत्मज्ञानी गुरु से ध्यान साधना सीखते हुए इन विषयों पर जो थोड़ा ज्ञान और अनुभव मैं अर्जित कर पाया हूँ, कविताओं के माध्यम से बहुत सरल तरीके से प्रस्तुत कर रहा हूँ|

सामान्य जीवन में दिखने वाली समस्याओं को विश्लेषण कर और उनका उत्तर कहाँ और कैसे खोजे, इस पर विचार दिए गए हैं|

उम्मीद की जाती है कि दिए गए संकेतों से  पाठकों में खुद को और ईश्वर को समझने की जिज्ञासा बढ़ेगी|

यह किताब किसी विशेष धार्मिक सोच, धर्म या जाति का प्रतिनिधित्व नहीं करती; केवल सर्वव्यापी ईश्वर पर बात करती है और सभी धर्मों में एकता को दर्शाती है|

Read More...
Paperback
Paperback 125

Inclusive of all taxes

We’re experiencing increased delivery times due to the restriction of movement of goods during the lockdown.

Also Available On

संजीव सरीन

संजीव सरीन एक स्नातक इंजीनियर हैं और हाल ही में पांच बड़े उद्योगों में विभिन्न क्षमताओं में लगभग 40 वर्षों की सेवा के बाद, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड में वरिष्ठ कार्यकारी पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।

वह आध्यात्मिकता में हैं और एक आत्मज्ञानी गुरु के संरक्षण में अभ्यास कर रहें हैं। उनकी पुस्तक, "ईश्वर - कौन, कहां और क्यों", गहरे संदेशों के साथ विभिन्न जीवन स्थितियों पर उनके समग्र प्रतिबिंब को दर्शाती है, जिसमें उन्होंने कविताओं के माध्यम से पाठकों को ईश्वर से और अधिक जुड़ने की आवश्यकता पर प्रेरित करने का प्रयास किया है। यह उनका पहला ऐसा प्रयास है जो “अमेज़न केडीपी” प्लेटफॉर्म पर इ-बुक नंबर वन बेस्ट सेलर हिट हो चुका है।

अतीत में उनकी रुचि खेल (वह एक राष्ट्रीय बास्केटबॉल खिलाड़ी थे) और मानव मनोविज्ञान को पढ़ने में थी।

उनकी रुचि हर समय खुद को विकसित करने और दूसरों की मदद करने में रहती है।

वह बहुत विश्लेषणात्मक हैं, विज्ञान और अध्यात्म को जोड़ना पसंद करते हैं। विभिन्न जीवन स्थितियों के प्रति उनका दृष्टिकोण काफी हद तक अध्यात्मवादी है, चाहे वह अपने प्रियजनों के जाने की दुर्भाग्य पूर्ण घटनाएं ही क्यों न हो | इनसे उन्हें दूसरों की सहायता करने में मदद मिलती है। 

इसको जारी रखते हुए, वह आगे भी मानव कल्याणकारी हेतु किताबें लिखने का विचार रखते हैं. 

Read More...