Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Gumsum / गुमसुम Ankahe Ehsaas/अनकहे एहसास

Author Name: Amit Singh | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

क्या है शायरी? चँद अल्फाजों के सहारे अपने एहसास, आक्रोश, मन की मिठास और कड़वाहट, ग़म और खुशी को व्यक्त करने का जरियाँ। यहाँ ढूँढ़ने जाए तो हर व्यक्ति में एक शायर छुपा है, कोई बतौर पेशे से, तो कोई यूँ ही हँसी मजाक में अपना वक़्त बिताने के लिए। पर हाँ, मजा सबको आता है, मन सबका हल्का हो जाता है, क्योंकि मन से एहसास बाहर आ जाते हैं। ऐसाही कुछ लेकर मैं आप सबके समक्ष प्रस्तुत हुआ हूँ, उम्मीद करता हूँ आपको पसंद आएगा। 

यूँ तो पनपते हैं कई एहसास हर सीने में।

हर एहसास को बोलो के पंख नहीं मिलते।

जिन्हें मिल जाते वो उड़ लेते मंज़िल की ओर।

बाकी सीने में रहकर, आख़िरी दम भरते हैं।

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 150

Inclusive of all taxes

Delivery by: 11th Nov - 14th Nov

Also Available On

अमित सिंह

अमित सिंह कल्याण तालुका जिला थाने (महाराष्ट्र) के रहिवासी, पेशे से सप्लाई चैन प्रोफेशनल हैं और डि एच एल में पिछले 7 वर्षों से कार्यरत हैं। इन्हें लेखन में रूचि होने के चलते, ये अपने लेखों द्वारा अभिव्यक्ति की भावनाओं को व्यक्त करते हैं। स्वयं अंतर्मुखी व्यक्तित्व के होते इन्हें लेखन का माध्यम सबसे सरल और अनोखा लगता है। लेखन के साथ-साथ ये घूमने फिरने में काफी रूचि रखते हैं, और उसके साथ इन्हें लोगों की भावनाओं और विचारों को सुन उन पर अध्ययन करना भी अच्छा लगता है। 

Read More...