Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Hindi Kavita: Bodh se Mimansa Tak / हिंदी कविता : बोध से मीमांसा तक कवि और कविता की ज़रुरत पर सार्थक विमर्श

Author Name: Editor Kumar Saurabh | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

यह पुस्तक कविता और कवियों की रचना-प्रक्रिया की विवेचना करते हुए मानव जीवन में उसकी भूमिका को विश्लेषित करती है| साथ ही वर्तमान समय में कविता की घटती लोकप्रियता के कारणों की पड़ताल तथा हिंदी कविता से संबंधित रूढ़ मान्यताओं का खंडन कर नयी काव्य-दृष्टि को विकसित करने का यत्न करती है| गद्य का संबंध विचार से तथा कविता का संबंध भाव से होता है जैसे पारंपरिक सरलीकरण को नकारती यह पुस्तक एक ओर जहाँ पाठक में सम्यक काव्य-बोध विकसित करती है, वहीं दूसरी ओर हिंदी कवियों के मूल्य और वैचारिक सरोकारों को स्पष्ट करने की कोशिश करती है| यह पुस्तक हिन्दी कविता में रूचि रखने वाले सुधि पाठकों तथा और अध्यापकों के लिए उपयोगी है| 

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 290

Inclusive of all taxes

Delivery by: 10th Dec - 14th Dec

Also Available On

कुमार सौरभ

कुमार सौरभ ने टी. एन.बी. महाविद्यालय,भागलपुर से स्नातक, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा से बी.एड. तथा दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर की परीक्षा उत्तीर्ण की है| विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (मानव संसाधन विकास मंत्रालय) की ओर से इन्हें शोध कार्य के लिए जूनियर रिसर्च फेलोशिप (जे.आर.एफ) तथा सीनियर रिसर्च फेलोशिप (एस.आर.एफ.) प्राप्त हुआ है| वर्तमान में हिंदी विभाग तेजपुर विश्वविद्यालय, असम से “कुँवर नारायण के काव्य में जीवन-दृष्टि एवं मूल्य-बोध” विषय पर शोध कर रहे हैं| अपने विश्वविद्यालयी जीवन के प्रारंभिक दिनों से ही इन्होंने वाद-विवाद प्रतियोगिताओं एवं सृजनात्मक लेखन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया तथा दर्जनों पुरस्कार अपने नाम किए| कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय  संगोष्ठियों में इनके प्रपत्र वाचन को सराहा गया है| कहानी, कविता एवं आलोचना में समान रूप से अभिरूचि रखने वाले कुमार सौरभ प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में लेखन कार्य के लिए निरंतर प्रयासरत हैं| इनकी कविताएँ, कहानियाँ एवं शोधलेख भारतीय पत्र-पत्रिकाओं के अलावा पिट्सबर्ग अमेरिका से निकलने वाली अन्तर्राष्ट्रीय पत्रिका ‘सेतु’ में भी प्रकाशित हुई हैं|

Read More...