Share this product with friends

Lafzon ka samandar / लफ़्ज़ों का समंदर

Author Name: Mahak Sharma | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details
जिंदगी में इंसान जब भी किसी से प्यार करता है तो उसे अनगिनत भावनाओं का सामना करना पड़ता है। अनकहे-अनसुने जज़्बातों का एक सैलाब जो उसके मन में हमेशा उठता रहता है। बहुत सारे एहसास उसे घेर लेते हैं, प्यार, खुशी, गम, आंसू और न जाने किन किन किस्सों का हिस्सा हम बनते जाते हैं। मोहब्बत के इस दौर में कभी-कभी ऐसा वक़्त भी आता है जब हम अपने प्यार से बहुत कुछ कहना चाहते हैं लेकिन हमारी जुबान हमारा साथ नहीं देती। हम में से कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो शब्द ही नहीं ढूंढ पाते जिनके ज़रिए वो अपना हाल-ए-दिल बयां कर सकें। और इसी कारण बहुत सी कहानियां अधूरी रह जाती हैं। दोस्तों ये शायरी कलेक्शन एक कोशिश है उन भावनाओं को उन जज़बातों को व्यक्त करने कि जिन्हें पढ़ कर शायद कोई अपने प्यार को पा सके या किसी के सामने अपना अनकहा प्यार रख सके। इस किताब में कुछ ऐसे अल्फ़ाजों को पिरोया गया है जो हर उस एक शख्स की जिंदगी में एहमियत रखते हैं जिसने सच्चा प्यार किया है। तो ऐसी ही मोहब्बत और दर्द की मिलीजुली लहरों का सफर है ये 'लफ़्ज़ों का समंदर'....
Read More...

Sorry we are currently not available in your region.

Also Available On

Sorry we are currently not available in your region.

Also Available On

महक शर्मा

महक कोई जानी-मानी लेखिका नहीं बल्कि इस लेखन सफर की छोटी सी मुसाफिर हैं, जो अपने सपनों और हकीकत को जोड़कर उन्हें लफ़्ज़ों में पिरोना जानती हैं। इन्हें IT सेक्टर में बहुत ही रुचि हैं और उसी में अपना कैरियर तराश रहीं हैं, किंतु लेखन और शायरी इनकी दुनिया का एक अभिन्न हिस्सा हैं। इन्हें दिल जीतने की अदा भी आती है और दिल की बात समझने का हुनर भी.....
Read More...