Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Mann Ke Bol / मन के बोल

Author Name: Vibhor Mathur | Format: Paperback | Genre : Young Adult Fiction | Other Details

अधिकांश कवियों के लिए कविताएँ कला का एक रूप, विचारों की अभिव्यक्ति या एक शौक हो सकता है। लेकिन यहाँ प्रत्येक कविता, उन विषयों पर एक परिप्रेक्ष्य एवं प्रतिबिम्ब है, जिन्होंने किसी न किसी तरह से, कवि की मनःस्थिति को प्रभावित किया है और उन्हें कलमबद्ध करने के लिए प्रेरित किया है। ये कविताएँ राजनीति से लेकर धर्म, परिवार, समाज और जीवन तक के विषयों पर कवि के मूल विचार को प्रस्तुत करती हैं। 

विवादास्पद विषयों पर अपने विचार सार्वजनिक रूप में व्यक्त करने की अक्षमता से सृजन की गई यह पुस्तक, 15 वर्षों में लिखी गई कविताओं का संकलन है। इन कविताओं का अंकुरण, शब्दशीलता पर संक्षिप्तता की व्यक्तिगत प्राथमिकता के परिणाम स्वरूप हुआ है। इसके अलावा, कुछ कविताएँ समाज और परिवार के साथ कवि के व्यक्तिगत अनुभव हैं, और उनके भावनात्मक मूल्यों का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। चित्रों के माध्यम से भी, प्रत्येक कविता के मूल भाव को उभारने का प्रयास किया गया है।

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 299

Inclusive of all taxes

Delivery by: 28th Jan - 1st Feb

Also Available On

विभोर माथुर

प्रस्तुत पुस्तक के लेखक, बाल्यकाल से ही साहित्य में रुचि रखते हैं और अपनी भावनाओं को विभिन्न मीडिया प्लेटफॉर्म पर ब्लॉगिंग, फ़िल्म समीक्षा, कविताओं और कहानियों के रूप में अभिव्यक्त करते रहे हैं। अंग्रेज़ी और हिंदुस्तानी भाषाओं में सक्षम, लेखक का ज्ञानार्जन का स्रोत विभिन्न पुस्तकें, संगीत के प्रति लगाव, शैक्षिक योग्यता, स्वयं एवं दूसरों के जीवन रहे हैं ।

मूल रूप से कानपुर उत्तर-प्रदेश के निवासी, लेखक जीवन-यापन हेतु प्रबंधन और मार्केटिंग में कार्यरत हैं और गुड़गाँव में परिवार संग रहते हैं ।

लेखक के अन्य लेख www.poornaviraam.com पर पढ़े जा सकते हैं ।

Read More...