Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Mujhse Meri Mulakat / मुझसे मेरी मुलाकात सकारात्मक सोच सेअपने स्वप्नों को साकार करें सार्थक जीवन जीने के 19 सिद्धांतों को जानिए/Sakaratmak Soch Se Apne Svapno Ko Sakar Kare Sarthak Jeevan Jene Ke 19 Siddhanto Ko Janiye

Author Name: Shreyansh Dixit | Format: Paperback | Genre : Self-Help | Other Details

इस पुस्तक में लेखक और उसकी आत्मा के बीच हुए वार्तालाप का वर्णन है | लेखक ने अपनी अंतरात्मा से उन सारे मूल प्रश्नों का जवाब चाहा है जो कि हर व्यक्ति की एक सफल व आनंदमय  जीवन की चाहत में निहित होता है, लेकिन कई व्यक्ति शायद इतनी गहराई से इन विचारों पर मंथन नहीं करते हैं और अंत में असंतुष्ट रहते हैं| सफलता और आनंद हर मानव का जन्म सिद्ध अधिकार है और कोई भी, कभी भी सकारात्मक विचारों से अपने जीवन की दशा और दिशा को परिवर्तित कर सकता है |

इस पुस्तक में सम्मिलित सरलतम उदाहरणों और समाधानों के माध्यम से जीवन की जटिलताओं को समझें । अपने विचारों के माध्यम से अच्छी आदतों को अपनाएँ और अपने  अवचेतन मन की अपार शक्ति को प्रयोग में लाएँ । आत्ममंथन द्वारा अंतिम खोज करने की लेखक की इस यात्रा में जुड़ें और रास्ते में आप अपने अन्तर्मन से भी मिल सकते हैं ।

Read More...
Paperback
Paperback + Read Instantly 349

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

श्रेयाँश दीक्षित 

श्री श्रेयांश दीक्षित एक प्रतिष्ठित लेखक और एक प्रेरक वक्ता है, जिन्होनें  अपनी अंग्रेजी की किताब "व्हेन आई मेट माइसेल्फ" की सफलता के बाद उसे अब हिन्दी में प्रकाशित किया है | इस पुस्तक में  उन 19 सिद्धांतों का वर्णन है, जिससे कोई भी अपने सार्थक अस्तित्व को अंजाम दे सकता है और बड़े ही आसानी से सारी प्रतिकूलताओं को एक सुनहरे अवसर में बदल सकता है | इनकी अँग्रेजी की किताब का विमोचान मध्यप्रदेश के पूर्व राज्यपाल स्वर्गीय श्री लाल जी टंडन ने किया था | लेखक एक इंजीनीयर हैं और एक मेराथन धावक भी रह चुके हैं |वे प्रख्यात विचारकों के विभिन्न विचारों का पालन करते हैं, लेकिन उनकी व्याख्या करने और उन्हें अद्वैतवादी स्तर पर प्रश्न पूछने के लिए भी सुरक्षित रखते हैं। वे जीवन की सामान्य बाध्यताओं से परे जाने के प्रति प्रयासरत हैं ताकि वे मानवता  के सर्वोपरि आकर्षण को ढूंढ़ सके जो मानवता को सबसे अधिक आकर्षित करता है।

 

Read More...