Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Netratva ki Dor, Safalta ki Aur / नेतृत्व की डोर, सफलता की ओर

Author Name: Kuldeep Gairola | Format: Paperback | Genre : Self-Help | Other Details

आप यह पुस्तक पढ़ना चाहेंगे क्योंकि…

आप नेतृत्व करना चाहते हैं।
आप सफल नेता बनना चाहते हैं।
आप अपने शुभचिंतक बढ़ाना चाहते हैं।
आप प्रेरक व्यक्तित्व बनना चाहते हैं।
आप अपने अधीनस्थों की कार्यदक्षता बढ़ाना चाहते हैं।
आप भारतीय संस्कृति की नेतृत्व शैली से प्रेरणा लेना चाहते हैं।

Read More...
Paperback
Paperback 245

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

कुलदीप गैरोला

लेखक कुलदीप गैरोला, एम. एस. सी., एम. एड., एम. बी. ए. हैं। अपने प्रारंभिक सेवा काल में जवाहर नवोदय विद्यालयों में पी. जी. टी.(भौतिकी) रहे हैं। श्री गैरोला ने वर्ष 1992 में 27 दिन की जापान यात्रा में तथा वर्ष 1995 में नई दिल्ली में आयोजित दक्षिण एशियायी देशों की खगोल विज्ञान की कार्यशाला में पी. जी. टी.  (भौतिकी) के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व किया। वर्ष 1999 में लोक सेवा आयोग उत्तर प्रदेश से राज्य सेवा के शिक्षा अधिकारी चयनित हुए। प्रधानाचार्य के रूप में इनके विद्यालय को वर्ष 2004 में कम्प्यूटर साक्षरता पर विशिष्ट कार्य हेतु राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त हुआ। शिक्षा अधिकारी के रूप में श्री गैरोला शैक्षिक प्रबंधन एवं प्रशासन में राष्ट्रीय नवाचार पुरस्कार 2015 से सम्मानित हैं। इन्हें प्रशासन एवं प्रबंधकीय प्रशिक्षण का वृहद अनुभव है।

श्री गैरोला कहते हैं, “यह याद रखना आवश्यक है कि प्रबंधक की बात का पालन होता है जबकि नेता की बात का अनुसरण होता है।“

Read More...