#National Writing Competition

Share this book with your friends

Sanjeev Mongia ki Kahaniya / संजीव मोंगिया की कहानियां

Author Name: Sanjeev Mongia | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

संसार में सभी किस्म के लोग होते हैं, कुछ सज्जन, कुछ सामान्य, कुछ दुर्जन. ये सभी गुण लोगों में अपने जीवन के अनुभवों से मिलते हैं. इनके अच्छे और बुरे होने की बात न्यायपूर्ण नहीं होगी क्योंकि ये गुण स्वभावगत होते हैं, लेकिन स्वभाव के अंतर इस दुनिया में स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं. जो व्यक्ति सज्जन होता है, उससे दुष्टता नहीं सधती और जो दुष्ट स्वभाव का होता है उससे सज्जनता की उम्मीद करना व्यर्थ है. वर्तमान परिदृश्य में सज्जनता में कमी होती नज़र आती है, अधिकतर लोग सामान्य स्वभाव के हो गए हैं. सामान्य स्वभाव का अर्थ, लोगों से दूरी बनाकर रखना, किसी की समस्याओं से न जुड़ना, अपने काम से काम रखना. कुछ दुष्ट भी इसी समाज में पाए जाते हैं जो किसी प्रकार अपना काम निकाल लेते हैं और फिर दूर हो जाते हैं, या कसी का भरोसा तोड़कर खुश होते रहते हैं.

 

संजीव मोंगिया की कहानियाँ सज्जनता के विस्तार की कहानियाँ हैं. ४९ कहानियों का यह गुच्छा पाठक को अच्छा लगता है क्योंकि इन कहानियों में विभिन्न पात्र मददगार के रूप में उभरते हैं जो इस बात का संकेत देते हैं कि अच्छाई और भलाई अभी भी जीवित है. पाठक इसकी कथा में डूबते हुए खुद को खोजता है, अपने स्वभाव की जांच करता है तथा भलमनसाहत से जुड़ने का मानसिक प्रयास करता है. यही इस कहानी संग्रह की बहुत बड़ी सफलता है. भले ही काल्पनिकता से गढ़ी हुई कहानियाँ हैं लेकिन मन को सही राह दिखाती हैं और यह भरोसा दिलाती हैं कि सज्जनता से ही इस दुनिया का कारोबार चलता है.

 

-द्वारिका प्रसाद अग्रवाल

(बिलासपुर छत्तीसगढ़)

Read More...
Paperback
Paperback 175

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

संजीव मोंगिया

७/११/१९६७ को हरियणा के शिक्षक परिवार में आपका जन्म हुआ , आपका जन्म स्थान शाहदरा दिल्ली था , माता पिता दोनों शिक्षक थे , जिसका   प्रभाव आपकी शिक्षा पर भी पड़ा , sस्नातक पूरी करने के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लिया और 1992 मे गृह मंत्रालय मे सहायक अनुभाग अधिकारी के पद पर  नियुक्ति हुई ,अपने अक्खड़ मिजाज व्यवहार (जो की दिल्ली/हरियाणा की विशेषता है ) आपने २०१४ में ऐच्छिक सेवा निवृति ले ली , सम्प्रति आपने लेखन की तरफ ध्यान केंद्रित किया और आज की तारीख में आपकी ५० से ऊपर कहानियों का संकलन आपके पास है।  लेखन के आलावा आपकी खेलने में भी रुची है स्नूकर , टेबल टेनिस आपके पंसदीदा खेलों में से हैं

Read More...