Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Zindagi Teri Dhoop Chaon / ज़िन्दगी तेरी धूप छाँव

Author Name: Rekha Mehra | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

आइए जिंदगी के बिखरे लम्हों को

समेटने की कोशिश करें फिर एक बार

जहां उदासी की कोई वजह ना हो

केवल नज़दीकियों का एहसास हो

एक दूसरे के लिए संवेदना  और

चेहरों पर मुस्कुराहट  लौट आएI

चलिए खुशी की खोज में “जिंदगी की धूप छांव” में एक  साथ  कदम उठाए

संग्रह का पहला पन्ना खोल अपनी यह यात्रा मिलजुलकर आरम्भ करे।

                                                                                                                       – रेखा

Read More...
Paperback
Paperback 250

Inclusive of all taxes

Delivery by: 7th Oct - 11th Oct

Also Available On

रेखा मेहरा

रेखा मेहरा का जन्म बनारस में हुआ वहां से परिवार दिल्ली आ गया। दिल्ली विश्वविद्यालय में पहले हिस्ट्री ऑनर्स मिरांडा हाउस फिर दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से सोशियोलॉजी में मास्टर्स किया।

काम करने के मौके सामने आए पर विवाह कर उन्होंने अपना जीवन मुंबई से आरंभ किया बचपन से ही लिखने और पढ़ने का बहुत शौक था और कुछ कविताए तभी लिखी  "जिन्दगी तेरी धूप छाँव" कविता संग्रह रेखा का प्रथम प्रयास है। भाषा सरल है। उम्मीद रखती है कि  आज के कठिन माहौल मे इसकी सरलता व खुशी की अभिव्यक्ति आप के मन को भी छू जाएंगी l

Read More...