கவிதை

'No strings attached' is what they like, 'Blind dates' and 'no commitments' aces the race. Pardon me if I missed the best. For according to me, the ones who follow -  மேலும் வாசிக்க...
359 5 பிடித்தமானவை
Paving way for self love!
By Oindrila Ghosh in Poetry
क्या तुम्हें पता है... देखा है मैने तुम्हारे चेहरे पर बसंत जो कह  மேலும் வாசிக்க...
357 0 பிடித்தமானவை
तुम्हारा बसंती चेहरा
The wedding party arrives at Ayodhya on the exit of Parashu Rama. Yudhaajit, the maternal uncle of Bharata, who came before marriages, now takes Bharata and Shatrugh  மேலும் வாசிக்க...
356 0 பிடித்தமானவை
Happy days after marriages
கல்நெஞ்சம் கரைந்து போகும்.. உள்ளுயிரும்  உறைந்து போகும்.. சொல  மேலும் வாசிக்க...
356 0 பிடித்தமானவை
காதல்
                                                                             साजन आज तुम आन मिलो  மேலும் வாசிக்க...
354 0 பிடித்தமானவை
साजन तुम आज आन मिलो ---
लौटा दो वह बचपन ,  जहां कोई गम ना था। कभी किसी को खोने का डर ना था,   மேலும் வாசிக்க...
353 1 பிடித்தமானவை
बचपन
By Ratnam Pathak in Poetry
Sometimes I want to become ugly,  So people would less notice me...  Sometimes I want to hide myself,  So that they wouldn't find me...  Sometimes I want to talk  மேலும் வாசிக்க...
352 2 பிடித்தமானவை
My Worth
By Anwesha Nayak in Poetry
कभी लिखा भी गया, तो कभी मिटाया भी गया।।   हाल ए दिल अपना, सबको बता  மேலும் வாசிக்க...
352 0 பிடித்தமானவை
मेरे अल्फ़ाज़
By Rajni UtsavMahavar in Poetry
Seasons of Love In the Spring of our lives, Our love was exciting and new, As the snow starts to melt, Our love will always stay true. In the Summer of our lives,   மேலும் வாசிக்க...
351 12 பிடித்தமானவை
Seasons of Love
Certainty  Uncertainty  Ton of confusing thoughts So many messages exchanged  Late night calls and chilling out at malls And yet the unanswered question . Do you  மேலும் வாசிக்க...
348 26 பிடித்தமானவை
Do you promise to love me ?
By sadiya sultana in Poetry
                      "सिर्फ तुम"   मैं शायद हूँ,यकीं तुम हो   मेरे चहरे पर   மேலும் வாசிக்க...
346 1 பிடித்தமானவை
"सिर्फ तुम"
By Lovelesh Bhagat in Poetry
ये दिल बड़ा नादान है, तेरा हर लफ्ज़ इसके अंदर है, तेरी हर बात इसम  மேலும் வாசிக்க...
346 0 பிடித்தமானவை
इतना सताती हो अब क्या मार ही डालोगी?
थोड़ा सा पागल होगा वो थोड़ा सयाना होगा  लेकिन वो सिर्फ मेरा ही द  மேலும் வாசிக்க...
346 1 பிடித்தமானவை
मेरे सपनों का हमसफर
By Reeta pradhan in Poetry
                                                          Love never ends ,                                           மேலும் வாசிக்க...
346 1 பிடித்தமானவை
Love never ends
पहली श्वांस भरी थी मैंने तेरी ही कोख में जो तू मुझे छोड़ गई मर जाउ  மேலும் வாசிக்க...
345 1 பிடித்தமானவை
माँ