AJAY AMITABH SUMAN

An Advocate ,Author, Poet, Blogger, Painter, Artist,Story Teller,Mythologist
An Advocate ,Author, Poet, Blogger, Painter, Artist,Story Teller,Mythologist

जीवन में बहुत  सारी घटनाएँ ऐसी घटती है जो मेरे ह्रदय के आंदोलित करती है. फिर चाहे ये प्रेम हो , क्रोध हो , क्लेश हो , ईर्ष्या हो, आनन्द हो , दुःख हो . सुख हो, विश्वास हो , भय हो, शंका हो , प्रसंशा हो इत्यादि, ये सारी घटनाएं यदा कदा मुझे आंतरिकRead More...


Achievements

+1 moreView All

अगर आप गाँधी हैं नहीं तो बनिए भी मत

Books by अजय अमिताभ सुमन

सवाल ये नहीं  है कि ये आदर्श जो की भगवान बुद्ध और महात्मा गाँधी जी द्वारा सुझाये गए अपने आप में उपयोगी है या नहीं ?  सवाल ये है कि क्या ये आपके अध्यात्मिक और मानसिक विकास के लिए स

Read More... Buy Now

The Certification of Super Consciousness

Books by Ajay Amitabh Suman

What is God?What is proof about existence of god? Since time immemorial , lots of people had been vouching in support of existence of god, however nobody is able to prove the existence of God so far. Science is evidence-based acquired knowledge. Until and unless something is proved objectively by doing experiment in a laboratory, the same is not called to be proved in the eyes of science. But the uniqueness about God is this , even science is unable to prove n

Read More... Buy Now

कुण्डलिनी बाबा की

Books by अजय अमिताभ सुमन

बातचीत के क्रम में ये ज्ञात हुआ कि बाबा एक स्कूल के रिटायर्ड शिक्षक थे। पेंशन मिल रहा था। पत्नी गुजर चुकी थी। उनका एक बेटा सम्पन्न व्यवसायी था। अपनी पत्नी के साथ खुशी पूर्वक जीवन

Read More... Buy Now

उपजे संदेह विश्वास करो

Books by अजय अमिताभ सुमन

जीव  तुझमें  और जगत में, है  फरक  किस बात  की,

ज्यों  थोड़ा  सा  फर्क शामिल,मेघ और  बरसात   की।

वाटिका    विस्तार    सारा ,  फूल   में   बिखरा हुआ,

त्यों &nbs

Read More... Buy Now

न्युटन का अपराध

Books by अजय अमिताभ सुमन

क्या ही बढ़िया होता, अगर न्यूटन ने सेब खा लिया होता। न फिर गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत होता, न फिजिक्स में एक चैप्टर बढ़ता, ना मुकेश उस दिन सेब और टमाटर के बारे में कहता, न वो उस दिन सेब

Read More... Buy Now

झा का मतलब क्या

Books by अजय अमिताभ सुमन

कहते है , शेर का दिन तो हर रोज होता है , पर कभी कभी गीदड़ का भी दिन आता है । हेमंत के पिता की दहाड़ एक सिंह की भांति थी । हेमंत की हालत अपने पिता के सामने एक गीदड़ सी हो जाती थी । फिर भी एक दि

Read More... Buy Now

Why to flaunt Surname

Books by Ajay Amitabh Suman

You must have to depart at a very early hour every day. You must be arriving late to work every day. This counter clerk has been bothering individuals in the same way for a long time.

Even if a gatekeeper says the correct things, people don't believe him and don't care to listen to him. 

You have not only comprehended but also embraced my point of view. You have a debt to me. 

Anyway, by moving away from the counter, I've comp

Read More... Buy Now

बिछिया

Books by अजय अमिताभ सुमन

जहाँ तक संवेदनाओं का प्रश्न है , वो मानव में भी पाई जाती हैं और जानवरों में भी । फर्क सिर्फ इसी बात का है कि मानव अपनी विभिन्न संवेदनाओं का इस्तेमाल अपनी उन्नति के लिए कर सकता है तो

Read More... Buy Now

धार्मिक भेड़िया: एक दफ्तर का

Books by अजय अमिताभ सुमन

स्वयं को बचाने के गीदड़ जैसी चपलता और भेड़िए जैसी चालाकी अति आवश्यक है। दफ्तर के कायदे कानून एक हिरण को भी भेड़िया बनने को बाध्य कर देते हैं। और भेड़िए का स्वभाव कैसा होता है या कै

Read More... Buy Now

दुर्योधन कब मिट पाया : भाग : 3

Books by अजय अमिताभ सुमन

मृग मरीचिका की तरह होता है झूठ। माया के आवरण में छिपा हुआ होता है सत्य। जल तो होता नहीं, मात्र जल की प्रतीति हीं होती है। आप जल के जितने करीब जाने की कोशिश करते हैं, जल की प्रतीति उत

Read More... Buy Now

When in Pain, How to take God’s Name?

Books by Ajay Amitabh Suman

What is God?What is proof about existence of god? Since time immemorial , lots of people had been vouching in support of existence of god, however nobody is able to prove the existence of God so far. Science is evidence-based acquired knowledge. Until and unless something is proved objectively by doing experiment in a laboratory, the same is not called to be proved in the eyes of science. But the uniqueness about God is this , even science is unable to prove n

Read More... Buy Now

If you aspire for throne, be ready to be alone

Books by Ajay Amitabh Suman

The topmost position is always unique. The uniqueness of the number one position is that can never be shared with anybody. One has to be alone on this topmost position. One cannot be number one after sharing it with number two, three or four.

A little bit of careless attitude may result into slipping down of your position. But what is advantage of being number one and having fear to loose it? Accumulating lots of wealth and being worried about protecti

Read More... Buy Now

The Devil

Books by Ajay Amitabh Suman

Many times in my life, I came across such incidents , which help in shaping my life in some ways. I keep on publishing those various thought on various platforms. These are are collections of my those stories stories touching the various aspects of life line philosophy, human behavious etc .

Read More... Buy Now

The Illegality of Law

Books by Ajay Amitabh Suman

Evolution is the law of nature and so as the Socio-Economic-political system regulating human behavior. It's only the quest of human for better regulation of people living in a society, that lead the the nomadic man to adopt feudal system, then monarch and now a days democracy. Judiciary is of course one of the important aspect of democratic which plays important part in this system. But nothing is perfect and so as inter relation of politics and judiciary in

Read More... Buy Now

दुर्योधन कब मिट पाया : भाग : 2

Books by अजय अमिताभ सुमन

महाभारत युद्ध के अंत में भीम द्वारा जंघा तोड़ दिए जाने के बाद दुर्योधन मरणासन्न अवस्था में हिंसक जानवरों के बीच पड़ा हुआ था। आगे देखिए जंगली शिकारी पशु बड़े धैर्य के साथ दुर्योधन क

Read More... Buy Now

कौन हूँ मैं ?

Books by अजय अमिताभ सुमन

जबसे मानव इस दुनिया में आता है , तबसे उसे लगातार संघर्ष  करना पड़ता है । जीवन यापन के लिए बहुधा व्यक्ति को वो सब कुछ करना पड़ता है , जिसे उसकी आत्मा सही नहीं समझती, सही नहीं मानती । फि

Read More... Buy Now

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग :1 [आरम्भ अंत का ]

Books by अजय अमिताभ सुमन

जब सत्ता का नशा किसी व्यक्ति छा जाता है तब उसे ऐसा लगने लगता है कि वो सौरमंडल के सूर्य की तरह पूरे विश्व का केंद्र है और पूरी दुनिया उसी के चारो ओर ठीक वैसे हीं चक्कर लगा रही है जैसे

Read More... Buy Now

भ्रांतियां महाभारत की :भाग 1

Books by अजय अमिताभ सुमन

महाभारत में वर्णित तथ्यों के बारे में अनगिनत भ्रांतियां व्याप्त है। मसलन कि द्रौपदी द्वारा दुर्योधन को अंधे का बेटा अँधा कहना , गांधारी द्वारा दुर्योधन को अपने दृष्टिपात मात्

Read More... Buy Now

WHEN SILENCE SPEAKS

Books by AJAY AMITABH SUMAN

RIGHT FRO THE CHILDHOOD, QUESTIONS REGARDING ALWAYS INTRIGUED ME. AS I GROW, QUESTION ALSO GROWN MANIFOLD. IN THIS BOOK I AM PRESENTING THOSE COLLECTIONS OF POEMS, WHICH RESULT OF MY QUEST TOWARDS GOD.

Read More... Buy Now

तू वकील दुनिया में नाम कर जायेगा

Books by अजय अमिताभ सुमन

जनतंत्र , प्रजातंत्र , न्यायपालिका आदि से व्यक्ति को न्याय की उम्मीद होती है . ये शब्द आम जनता को स्वप्निल जगत में ले जाने का दावा करते हैं , परन्तु यथार्थ इसके विपरीत हैं . बिल्कुल म

Read More... Buy Now

मर्सिडीज बेंज वाला एक गरीब आदमी

Books by अजय अमिताभ सुमन

साहित्य बहुत हीं सशक्त माध्यम है , ह्रदय की आवाज को बाहर लाने का. एक व्यक्ति अपनी बात को हमेशा बाहर नहीं ला पाता . बहुत सारे कारण होते हैं . जीवन में बहुत  सारी घटनाएँ ऐसी घटती है जो मे

Read More... Buy Now

मुमुक्षु

Books by अजय अमिताभ सुमन

ईश्वर की जिज्ञासा रखने वाले व्यक्ति द्वारा रचित कविताओं का संग्रह

Read More... Buy Now

कॉर्पोरेट डंकी

Books by अजय अमिताभ सुमन

आरक्षण का एक परिणाम ये रहा कि ज्यादातर कॉर्पोरेट सेक्टर में काम करने को बाध्य हो गए . सरकारी नौकरियों में जहाँ एक तरफ सुरक्षा की भावना रहती है वहीँ पे कॉर्पोरेट जगत में काम की महत्

Read More... Buy Now

माँ

Books by अजय अमिताभ सुमन

ये कविता संसार की सारी माताओं की चरणों में कवि की सादर भेंट है.  इस कविता में एक माँ के आत्मा की यात्रा स्वर्गलोक से ईह्लोक तक विभिन्न चरणों में दिखाई गई है . माँ के आत्मा की यात्रा इ

Read More... Buy Now

कोड ईगो

By AJAY AMITABH SUMAN in Science Fiction | Reads: 3,040 | Likes: 0

बड़े लोग उसे बहुत हीं शरारती बच्चा कहते थे। रित्विक के हाथ में कोई भी खिलौना पकड़ा दो, टूटने में समय नहीं लगता। तुरं  Read More...

Published on Oct 16,2022 08:09 PM

तुझे शर्म नहीं आती?

By AJAY AMITABH SUMAN in True Story | Reads: 2,644 | Likes: 0

जून का अंतिम महीना चल रहा था । मौसम विभाग ने आने वाले दो तीन दिनों के भीतर मानसून के आने की सम्भावना व्यक्त की थी । चि  Read More...

Published on Jul 2,2022 09:26 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/