Join India's Largest Community of Writers & Readers

muskan

Read More...

Broken heart

By muskan in Poetry | Reads: 93 | Likes: 1

ये दिल प्यार का मोहताज होता है, इससे खेलने की गुस्ताखी ना करना ऐ-दोस्त। टूट गया एक दफ़ा तो जुड़ ना पायेगा, नफ़रत का तूफ़ा  Read More...

Published on Jun 13,2020 10:43 PM

ए-दोस्त

By muskan in General Literary | Reads: 73 | Likes: 0

दुआएं करते हैं महज़ इतनी सी रब से हो ना कभी खफ़ा ये मुस्कान तेरे लब से है तू सबसे जुदा इस जहां में, ऐ- दोस्त झुकता है चाँद  Read More...

Published on Jun 13,2020 10:40 PM

Gunehgaar sirf tum ho

By muskan in General Literary | Reads: 77 | Likes: 0

गर बरसा बरसात बनकर काजल आँखों से है, गुनहगार सिर्फ तुम हो। ये जो लगा लेते हो उम्मीद नये रिश्तों की बुनियाद पे, गुनहग  Read More...

Published on Jun 13,2020 09:11 PM

Waqt

By muskan in General Literary | Reads: 72 | Likes: 0

वक़्त गुज़रता गया, रातें काली होती गयी, दिल की ज़ुबां से, मोहब्बत गाली होती गयी! किये थे कई वादे कुछ उनसे- कुछ खुद से मग  Read More...

Published on Jun 13,2020 09:09 PM

दिल की बात

By muskan in General Literary | Reads: 81 | Likes: 0

दिल की धड़कन पे तेरा नाम लिख गया, साँसों के धागों से तेरा साथ बंध गया, यूँ तो इज़हार हुआ ना कभी हमसे पर, दुआओं की अर्ज़ी मे  Read More...

Published on Jun 13,2020 09:06 PM

Nadaniyaan

By muskan in General Literary | Reads: 81 | Likes: 0

नजाने कहाँ छुपके रह गए वो पल जिनमें थे हज़ारो msg और ढेर सारी कॉल हाँ लोग नहीं रहते साथ हमेशा सुना था मैंने पर हमारी नाद  Read More...

Published on Jun 13,2020 09:03 PM

Ishq

By muskan in Romance | Reads: 75 | Likes: 0

तारों की आड़ में छुप के तेरे ख़्वाब बुन लिए मन ना लगा तो तेरे ख़्याली खत पढ़ लिए दिल को आहट थी कि तू वही  जिसको खुदा लिख म  Read More...

Published on Jun 13,2020 09:00 PM

मक़सद

By muskan in General Literary | Reads: 65 | Likes: 0

बरसात खिड़की के बाहर थी या आंखों में, इसका फर्क महसूस ना हुआ, खुशबू मिट्टी की थी या चिट्ठी की, जज़्बातों को यह भी एहसास   Read More...

Published on Jun 13,2020 08:56 PM

Khoobasoorati

By muskan in Romance | Reads: 77 | Likes: 0

Kaayal hoon tere tabassum pe Tishna uthne lgi hai teri jhalak pe Kab tak khelega tu aise aankh micholi Kar tabdeel ujaale ko khoobsoorat taveel mein!   Read More...

Published on Jun 13,2020 08:49 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/