10 Years of Celebrating Indie Authors

Bhawana lal

चिंटू नाम का सितारा

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 118 | Likes: 2

सिनेमा जगत में चिंटू नाम का सितारा  वो कपूर खानदान का दुलारा  वो हिंदुस्तान का प्यारा  आसमां में कहीं खो गया    Read More...

Published on Apr 30,2020 02:28 PM

IRFAN KHAN

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 128 | Likes: 1

नाम था इनका इरफान खान  अपने फिल्म जगत की शान  ये थे बहुमुखी प्रतिभावान  किरदार थे इनके बड़े शानदार  ये तो थे अ  Read More...

Published on Apr 29,2020 10:42 PM

मौसम की मस्ती

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 207 | Likes: 3

 मौसम को भी आजकल बड़ी मस्ती है छाई कभी सूरज देता है अपनी तपीश  तो कभी चलती है ठंडी ठंडी पुरवाई कभी कभी बादल भी  घ  Read More...

Published on Apr 28,2020 09:24 PM

जज्बा

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 143 | Likes: 1

खुद से कर इरादा पक्का फिर तुझे कोई रोक न पाएगा , कर अपने हौसलों को इतना बुलंद फिर कोई तुझे झुका न पाएगा, कर अपने ईश्वर   Read More...

Published on Apr 24,2020 09:00 PM

जज्बा

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 108 | Likes: 0

खुद से कर इरादा पक्का   फिर  तुझे कोई रोक न पाएगा , कर अपने हौसलों को इतना बुलंद  फिर कोई तुझे झुका न पाएगा, कर अप  Read More...

Published on Apr 24,2020 08:50 PM

आओ कुछ नया सिखे

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 175 | Likes: 2

आओ फिर थोड़ा जी ले हम  इस खौफ़ के माहौल में भी  कुछ नया सीख ले हम  बस यूं ही खाली न बैठे हम  उदासी में न खोए रहे हम&nbs  Read More...

Published on Apr 22,2020 11:52 AM

मैं और मेरी खामोशी

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 156 | Likes: 4

मैं और मेरी खामोशी  चुपके से करते हैं बातें  वो मुझे सुनाएं मैं उसे सुनाऊं अपनी जजबातें  कहती है खामोशी मेरी    Read More...

Published on Apr 3,2020 05:44 PM

जीवन पथ

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 166 | Likes: 3

रोके जो कोई राह तो रुक ना जाना तू  रोके जो कोई राह तो रुक ना जाना तू  ढूंढ कोई और राह जीवन पथ पर आगे बढ़ते जाना तु जी  Read More...

Published on Apr 2,2020 11:11 AM

कोरोना का अत्याचार

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 255 | Likes: 4

कोरोना का फैला है जहर  हर गांव गांव हर शहर  अब तो सुधरो अब तो मानो  नहीं तो मच जाएगा चारों और कहर  सीता ने जब लान  Read More...

Published on Apr 1,2020 06:25 PM

हमारे रक्षक

By Bhawana lal in Poetry | Reads: 156 | Likes: 3

धन्य है वे लोग सौजन्य है वे लोग, जो करते हैं हमारी रक्षा जान अपनी जोखिम में डालकर करते है अपना फ़र्ज अदा अरे कुछ तो शर्  Read More...

Published on Apr 1,2020 05:59 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/