10 Years of Celebrating Indie Authors

Komal Soni

कुदरत का कहर

By Komal Soni in Poetry | Reads: 107 | Likes: 0

* *कल समय आपका था ।* *आज समय कुदरत का है।। कल आपके कर्मो , को कुदरत ने देखा । आज कुदरत के परिणाम , आप देखो ।। मत करो कुदरत , स  Read More...

Published on Jun 24,2020 04:09 PM

कोरोना का कहर

By Komal Soni in Poetry | Reads: 105 | Likes: 0

* कोरोना को हराना * देश की सेवा में लगे है भाई । कर लो तुम इनका सम्मान ।। ये देश के सच्चे रखवाले । अपनी जान गवाने वाले ।  Read More...

Published on Jun 24,2020 03:56 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/