Hindi

Main Kavita Hoon
By in Poetry | Reads: 109 | Likes: 0
Dil ke ayne Ka zariya Ahsas ka Dariya  Bhi Insaniyat  Ki bhook Haivaniyat Ki Aag Ka Chashmadeet Gawah bhi Har insaan Mein Farishton Ka Aina bhi Pukaar lo Jhinjhor lo Tuh Mujhme Main Aawara Junoon Mein Dooba Waqt hoon Tera hamesha Saath hoon    Read More...
Published on Apr 7,2020 12:37 AM
एक डर
By dolly in Poetry | Reads: 93 | Likes: 0
डर लगता है सपना टूट ना जाए, संभले है कहीं फिर से बिखर ना जाए। हिम्मत नहीं हारी और ना हारेंगे, हौसला अब भी है उसे जरूर प  Read More...
Published on Apr 7,2020 01:19 AM
इंसान
By Abhishek mishra ji in Poetry | Reads: 105 | Likes: 0
ये सोचतें हुए कि इस महामारी से,होजाएंगे सब एकजुट,इंसानियत तो नहीं दिखी यहाँ, बस दिखा फ़ितरत और झूठ,.कैसे बचेगा देश ये   Read More...
Published on Apr 7,2020 05:50 AM
वो लड़की धूम धड़ाका थी ( द्वितीय भाग )
By Abhishek mishra ji in Poetry | Reads: 254 | Likes: 0
वो लड़की धूम धड़ाका थी,वो मंज़िल थी, वो आशा थी,वो चंचल थी, वो हताशा थी,.वो लड़की धूम धड़ाका थी,.वो काफ़िर थी, वो मुसाफ़िर थी, दर द  Read More...
Published on Apr 7,2020 06:03 AM
कमा रही हूं, पर तेरे काम नही आ रही हूँ
By Nupur Jindal in Poetry | Reads: 225 | Likes: 5
एक मुदत हुई माँ,तेरी गोद मे सर रखे हुए,ये दुनिया मुझे कटपुतली बना रही हैं।मैं तो कमाती थी तेरे लिए,जरूरतें मुझे खुदग  Read More...
Published on Apr 7,2020 01:15 PM
Poem on domestic violence
By manika garg in Poetry | Reads: 117 | Likes: 0
रात की शांत गलियों में बंध रही थी हिचकियां कौन थी वो ?? जो भर रही थी सिसकियां.. रोते-रोते पूछ रही वो कैसी हैं ये हस्तिय  Read More...
Published on Apr 7,2020 03:08 PM
Jawab milenge
By manika garg in Poetry | Reads: 125 | Likes: 0
कह रहा है हर शख्स न जाने अब क्या होगा?? मन में है ये डर जो हो रहा है, आखिर कब तक होगा?? कब तक, यूं घरों में कैद होगीं ये जिं  Read More...
Published on Apr 7,2020 03:12 PM
Ab Bas yeh Jaan Lo Tum
By Ritika Rai in Poetry | Reads: 127 | Likes: 1
Nahi Chahta Har Koi Tumko Ab Yeh Jaan Lo Tum Nahi Reh Sakta Har Koi Khush Tumse Ab Yeh Maan Lo Tum karoge Jitni Bhi Koshish Ek Sath Rehne Ki Utna Tum Dur Hoge  Ab Yeh Man Me Daal Lo Tum To Suno  Meri yeh baat ab Jaan Lo tum Ek Baar Iss Nakli Bhid see Bahar Jhak Lo tum Jo Hai Sacha Tumhare   Read More...
Published on Apr 7,2020 05:50 PM
बातों ही बातों में
By Miss k.p (Komal prajapati) in Poetry | Reads: 234 | Likes: 1
बातों ही बातों में जिंदगी चलती जा रही हैं न जाने क्यों राहों में मुश्किलें ही मुश्किलें बढती जा रही हैं  मुश्किलो  Read More...
Published on Apr 7,2020 05:53 PM
आदत
By Vikas Sahni in Poetry | Reads: 93 | Likes: 1
प्यार एक आदत है, आदत बन गयी हो तुम, कही भी चला जाता हूँ, आदत बदलती ही नहीं, क्या करूं मैं अपनी, आदत का आदत से, लत बनती जा र  Read More...
Published on Apr 7,2020 06:15 PM
वो अगली सुबह
By Shreya Jain in General Literary | Reads: 104 | Likes: 0
                                        वो अगली सुबहअगली सुबह अमन तो जागा लेकिन अम्मी नहीं। यह दास्त  Read More...
Published on Apr 7,2020 07:40 PM
dulagar( depression in iranian language)
By M b warsi in Poetry | Reads: 108 | Likes: 1
 ठहर सी,सीहर सी जाती हूं मैं महेज़ खुदकुशी के नाम से |     रोज न जाने कितने लोग कर जाते इसे बड़े आराम से |         Read More...
Published on Apr 7,2020 08:59 PM
भारत की आवाज़
By Dr. Sonal Shukla in Poetry | Reads: 88 | Likes: 0
वो जो कहते हैं की नहीं हो सकता तुमसे,अब दिखाने का मौका आया है,ऐ भारत, दिखा दो उन्हें की,न सिखाएं हमें जो हमीं से पाया ह  Read More...
Published on Apr 7,2020 09:04 PM
“इक लौ आसमानी”
By Rafakat Khan in Poetry | Reads: 109 | Likes: 1
"इक लौ आसमानी" इक लौ आसमानी जला रखी है सीने में, “फ़क्त” उम्मीद हर साँस जगा रखी है सीने में।  कोशिशें मैं भी करूँ  Read More...
Published on Apr 7,2020 09:36 PM
वो और माँ
By Urmila in Poetry | Reads: 86 | Likes: 0
वो कहीं दूर बैठा, मेरी आखरी साँसें गिनने का इंतज़ार कर रहा है  मगर शायद उसे ये नहीं पता उसकी बददुआ से ज़्यादा  मेर  Read More...
Published on Apr 7,2020 09:48 PM