Hindi

Dadagiri
By sunil bishnoi in Crime | Reads: 140 | Likes: 1
अंकिता अपने गरीब पिता की इकलौती संतान थी |उसके पिता पैसे से किसान थे | वो 11वी  क्लास मे पढ़ रही थी  तो उसे मोबाइल की ज  Read More...
Published on Aug 31,2020 12:54 PM
दोस्त
By Yachika Prajapati in Poetry | Reads: 93 | Likes: 0
*ए  दोस्त तुम मुझको खो दोगे* एक दिन जब हम जुदा हो जायेगे  न जाने कहाँ खो जायेगे, ढूँढोगे बहुत तुम हम्को पर लौट के हम ना   Read More...
Published on Aug 31,2020 07:09 PM
कहानी हर एक घर की part 2
By adarsh pandey in True Story | Reads: 103 | Likes: 1
कहानी हर घर की    कहानी हर घर की part 2 कोई भी संसार में ऐसा व्यक्ति नहीं मिले गा ,जिसे कोई कस्ट ना  हो ,प्र्तेक व्यक्ति क  Read More...
Published on Sep 2,2020 10:52 AM
सिसोदिया का सपना
By Rajuram Meghwal in Poetry | Reads: 142 | Likes: 1
मेहमानो की इस खटीया को थोड़ा सजाने तो दो | कुछ अभी तक नही थोड़ा तो बजाने दो | मैं  बजालूँ कितना  भी ढोल लेकिन, कान तक आव  Read More...
Published on Sep 4,2020 01:09 PM
लेखन शिक्षा पर भी
By Rajuram Meghwal in True Story | Reads: 88 | Likes: 0
   वास्तव में हमारे समाज के लिए क्या आवश्यक हैं इस चीज़ पर विचार होना चाहिए  | सभी अपनी अपनी झोली भरने में लगे हुए हैं   Read More...
Published on Sep 4,2020 01:38 PM
Ek stree ki soch
By Sanskruti Mahale in General Literary | Reads: 100 | Likes: 0
Ladki hogi ya ladka ( ek stri ki soch ) Aaj sab bohot khush hue kyuki aaj mene unko Itani badi khush   Read More...
Published on Sep 8,2020 06:16 PM
Ek stree ki soch
By Sanskruti Mahale in General Literary | Reads: 95 | Likes: 0
Ladki hogi ya ladka ( ek stri ki soch ) Aaj sab bohot khush hue kyuki aaj mene unko Itani badi khush   Read More...
Published on Sep 8,2020 06:17 PM
चाँद
By ??????? ???????? in Poetry | Reads: 96 | Likes: 0
शेऱ (मतला)  मैं चाहता हूँ के जमीं पर ला पटक दूँ आसमाँ    फ़िर सोचता हूँ चाँद बहुतों में बँटेगा ख़ामखाँ                                Read More...
Published on Sep 11,2020 12:17 PM
इतवार की वह शाम
By Dr Arti 'Lokesh' in General Literary | Reads: 139 | Likes: 0
सुनसान सड़कें, अँधेरी गलियाँ, निर्जन मौहल्ले... ! खामोशी ऐसी कि पत्ता भी खड़के तो कई किलोमीटर दूर तक सुनाई दे। और सुनाई   Read More...
Published on Sep 12,2020 12:14 AM
उफ़नता लावा
By Dr Arti 'Lokesh' in General Literary | Reads: 138 | Likes: 0
आज परमू की शादी है। शहर का सबसे महँगा बेंकट हॉल। विवाहस्थल किसी राजमहल से कम नहीं। मुख्य द्वार पर बिजलियाँ अभिवादन  Read More...
Published on Sep 12,2020 12:17 AM
चीर-फाड़ वाली डॉक्टरनी
By Dr Arti 'Lokesh' in General Literary | Reads: 158 | Likes: 0
“पत्नी उम्मीद से है। सोचता हूँ दीपक, इस बार रिस्क न लूँ और ‘... परीक्षण’ करवा लूँ। “कैसी बात करते हो राजेश! अगर बेटी हु  Read More...
Published on Sep 12,2020 12:24 AM
गुड़ की भेली
By Dr Arti 'Lokesh' in General Literary | Reads: 168 | Likes: 0
“अभी तुम्हारे पिता की चिता की राख भी ठंडी नहीं हुई और तुम्हें जायदाद का हिस्सा चाहिए।” चिल्लाते हुए गुस्से से काँप  Read More...
Published on Sep 12,2020 12:29 AM
यादें
By Anuj Subrat in True Story | Reads: 116 | Likes: 1
आज शाम जब मुझे भूख लगी तो अपनी माँ के पास गया और माँ की साड़ी का पल्लू पकड़ कर , खींचते हुए उससे शिकायती लहजे में कहा कि,   Read More...
Published on Sep 14,2020 07:21 AM
अद्वितीय सुषमा का धनी : मोंटेनेग्रो
By Dr Arti 'Lokesh' in Travel | Reads: 123 | Likes: 0
यात्रा संस्मरण   अद्वितीय सुषमा का धनी : मोंटेनेग्रो   बहुधा ऐसा होता है कि आप जहाँ की कल्पना भी न कर रहें हों नियति   Read More...
Published on Sep 16,2020 06:56 PM
हसरतें है मेरी
By Rohit in Poetry | Reads: 110 | Likes: 0
हसरतें है मेरी के रहना है तेरे इतने करीब, चाह कर भी हमें जुदा ना कर पाए नसीब.. हसरतें है मेरी के सुन कर तेरी हर बातें, ब  Read More...
Published on Sep 17,2020 04:28 AM