#National Writing Competition

dolly

क्यूं तुझे कबूल नहीं

By dolly in Poetry | Reads: 113 | Likes: 0

न जाने कितना दिल दुखाया है हमने, जो आज एक भी दुआ तुझे कबूल नहीं। आज कैद है अपने ही घरों के पिंजरों में, पर क्यूं तुझे य  Read More...

Published on May 4,2020 11:12 PM

अच्छा होता

By dolly in Poetry | Reads: 79 | Likes: 1

कितना अच्छा होता कि हमें यह पहले मालूम होता कि ग़म तो कभी थे ही नहीं ...... यह तो बस मोह था जो दूसरों  के घर देख कभी अपने   Read More...

Published on Apr 17,2020 11:23 PM

ख़ामोशी अच्छी लगती हैं

By dolly in Poetry | Reads: 92 | Likes: 0

दिल भर आता है जब किसी की याद में तो खामोशी अच्छी लगती है। टूट जाते है पुराने रिश्ते किसी नई आड में तो खामोशी अच्छी लग  Read More...

Published on Apr 14,2020 12:41 AM

समय आ गया है

By dolly in Poetry | Reads: 120 | Likes: 1

मुश्किल है रास्ते पर आज अपनी कहानी लिखने का समय आ गया है। कब से था जिस पल का इंतज़ार आज वो पल जताने का समय आ गया है। च  Read More...

Published on Apr 9,2020 08:13 PM

एक डर

By dolly in Poetry | Reads: 93 | Likes: 0

डर लगता है सपना टूट ना जाए, संभले है कहीं फिर से बिखर ना जाए। हिम्मत नहीं हारी और ना हारेंगे, हौसला अब भी है उसे जरूर प  Read More...

Published on Apr 7,2020 01:19 AM

हार अक्सर रुला देती है

By dolly in Poetry | Reads: 104 | Likes: 0

 हार अक्सर रुला देती है, पर यह बस समझने की बात जनाब वही हार जीना भी सिखा देती है.... टूटते है उस पल जब हमे यह गिरा देती ह  Read More...

Published on Apr 5,2020 04:48 PM

रोशनी

By dolly in Poetry | Reads: 92 | Likes: 0

आज दीये की रोशनी नई उम्मीद जगायेगी। लड रहे है जिस जंग से उसे जीतने में नई रफ्तार लगाएगी।।                  Read More...

Published on Apr 5,2020 04:45 PM

महादेव तेरे नाम

By dolly in Poetry | Reads: 114 | Likes: 0

कभी आंसू छेड़ जाते है दिल के तार, कभी याद आते है वक्त के वार । कोई कहता है वक्त सब का बदलता है, पर हमारा किस ओर चलता है।   Read More...

Published on Mar 30,2020 12:04 PM

पल

By dolly in Poetry | Reads: 120 | Likes: 1

सोचा नहीं था ऐसा भी पल आएगा जानवर बाहर और इन्सान घर के अंदर आएगा । कभी मांगते थे एक पल का आराम आज घंटों का आराम भी हरा  Read More...

Published on Mar 29,2020 01:03 PM

अफसाना

By dolly in Poetry | Reads: 105 | Likes: 1

छोड़ गए बीच रास्ते में अब सब अफसाना सा लगता है। पहले हर मौसम था अपना आज वही बेगाना सा लगता है। कल तक था जो हासिल आज बे  Read More...

Published on Mar 28,2020 04:50 PM

मौका मिला है

By dolly in Poetry | Reads: 122 | Likes: 1

कभी गुम हो गई थी जिंदगी इस दौर मैं  आज खुद को पाने का मौका मिला है .....   कभी चाह थी एक पल की  आज हर पल अपनों के पास रह  Read More...

Published on Mar 26,2020 01:07 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/