Dedicate your #versesoflove

Ojas Kumar Shahi

Public speaker and writer
Public speaker and writer

Ojas was born in 1998 in Bhagwanpur village of Hazaribagh district of Jharkhand. His early education took place in the Government School of the village, he is now getting higher education from IGNOU with a job in the private sector. He started writing from the seventh grade.

Some of his poems have been published in the poem of Prabhat Khabar in the poem of Bal Prabhat and Amar Ujala.

These have been co-author in many Anthology.

Read More...

चस्मक सी है ज़िन्दगी

Books by ओजस कुमार शाही

"चस्मक सी है ज़िन्दगी" में लेखक समाज, प्यार, लक्ष्य, जीवन को कविता के रुप में प्रेरक बातों के समावेश के साथ उत्साह हासिल करने के लिए सरल शब्दों में वर्णित किया है। इस किताब में समाज

Read More... Buy Now

जिन्दगी जीने का दस्तूर

Books by ओजस कुमार शाही

"जिंदगी जीने का दस्तूर" में लेखक समाज, प्यार, लक्ष्य, जीवन को कविता के रूप में प्रेरक बातों के समावेश के साथ उत्साह हासिल करने के लिए सरल शब्दों में वर्णित किया है। इस किताब में समाज

Read More... Buy Now

मैं छाया में खोई नारी हूँ

By Ojas Kumar Shahi in Poetry | Reads: 137 | Likes: 1

मैं छाया में खोई नारी हूँ मैं दुविधाहत साहस को अपनाई हूँ चाहूँ तो पा लूँ जग सारा  फिर भी बैठ पछताई हूँ चंचल सा है मन  Read More...

Published on Mar 23,2020 12:06 AM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/