10 Years of Celebrating Indie Authors

Hare Ram Singh

डॉ.हरेराम सिंह, भारतीय मूल के हिंदी कवि व आलोचक हैं। वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय-आरा से इन्होंने पीएच.डी की.ये हिंदी के प्रतिष्ठित कवियों में से हैं.अबतक इनकी पच्चीस पुस्तकें प्रकाशित हैं.
डॉ.हरेराम सिंह, भारतीय मूल के हिंदी कवि व आलोचक हैं। वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय-आरा से इन्होंने पीएच.डी की.ये हिंदी के प्रतिष्ठित कवियों में से हैं.अबतक इनकी पच्चीस पुस्तकें प्रकाशित हैं.

डॉ.राजेंद्र प्रसाद सिंह: नए साहित्य और इतिहास की खोज

Books by संपादक:डॉ.हरेराम सिंह

'डॉ.राजेंद्र प्रसाद सिंह:नए साहित्य और इतिहास की खोज" ख्यात अंतरराष्ट्रीय भाषा वैज्ञानिक , बौद्ध दार्शनिक, इतिहासकार डॉ.राजेंद्र प्रसाद सिंह के साहित्यिक व ऐतिहासिक उपलब्धियो

Read More... Buy Now

रोहतासगढ़ के पहाड़ी बच्चे

Books by हरे राम सिंह

Children of Rohtasgarh Hill

Read More... Buy Now

चाँद के पार आदमी

Books by हरेराम सिंह

Hindi Poetry compilation

Read More... Buy Now

मैं रक्तबीज हूँ!

Books by हरेराम सिंह

The book is a compilation of hindi poems

Read More... Buy Now

अनजान नदी !

Books by

Hindi fiction novel

Read More... Buy Now

Kaaner k phool

Books by

Hindi fiction story

Read More... Buy Now

पहाड़ों के बीच से...

Books by

The poems have been compiled by the author.

Read More... Buy Now

तीन चेहरों का घर

By Hare Ram Singh in Young Adult Fiction | Reads: 1,879 | Likes: 3

बहुत कोशिश के बाद राम भजन मुस्कुराए थे। इधर कई सालों से रामेश्वरम् कॉलोनी में घर बनाकर रहे रहें हैं। पर, शायद किसी न  Read More...

Published on Jun 11,2022 10:26 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/