Join India's Largest Community of Writers & Readers

Shashwat Kumar Singh

Read More...

"माँ"

By Shashwat Kumar Singh in Poetry | Reads: 80 | Likes: 1

तपती जलती धूप में राहत की छाँव मयस्सर कराती है माँ बिन कहे ही फिर मेरी प्यास बूझाती है माँ थक गया अब मैं इस ज़माने से र  Read More...

Published on Apr 22,2020 10:19 AM

Ruh Sa Nikli Aawaaz♥️

By Shashwat Kumar Singh in Poetry | Reads: 130 | Likes: 1

बड़ी ही दिलचस्प होती है ये सत्रह-अठरह की लड़कियाँ वक्त-सुब्हदम सी होती है ये सत्रह-अठरह की लड़कियाँ धूप से शिकायातें ह  Read More...

Published on Mar 23,2020 08:00 AM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/