#National Writing Competition

Ajahar Rahaman

Politician and poet
Politician and poet

बहोत रूलाया है ।

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 94 | Likes: 1

माही मुझे बहोत रूलाया है तुमने । अब छोड़ दो मुश्कराने के लिए । बहोत टूटा ,बिखरा ,हर हाल में रहता हूँ हर दम तुम्हारे पा  Read More...

Published on Jun 2,2020 07:33 PM

मैं कवि कल्पित हूँ

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 112 | Likes: 1

मैं कवि कल्पित हूँ,शब्दो में अच्छा लगता हूँ । मैं बादल के संग- संग चलता हूँ । बारिस में पपीहो के संग हँसता हूँ । मैं क  Read More...

Published on May 21,2020 11:58 PM

दो बूँद सुधा

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 103 | Likes: 1

काश! कोई दो बूँद सुधा देदे। गर नही दे सकते ,बूँद धरातल की ,पय की ; हे नाथ मुझे मृत्यू देदे। बस एक आखरी बार ही मांगता हूँ   Read More...

Published on May 21,2020 06:02 AM

जिंदगी कि लिये

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 99 | Likes: 1

माना मोहब्बत जरूरी है ,जिन्दगी के लिये । चलो तुम मुझे जाने भी दो अभी के लिये  । क्यूँ क्या हुआ तुम्हारा ओ सब!  बिना   Read More...

Published on May 14,2020 07:30 AM

थक चुका हूँ माही

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 110 | Likes: 0

आज कल बड़े बेचैन से हैं हम माही ,मोहब्बत भी दर्द का जरिया नज़र आती है । बस कुछ जरूरते हैं जिंदगी जिये जा रही हैं । तकल  Read More...

Published on May 13,2020 07:02 AM

तुम्हारी कमी है ।

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 98 | Likes: 1

शहर के उजाले में । चलते हैं जब रफ्ता रफ्ता पांव मेरे। यूँ गुज़र जाता हर लम्हा   तुम्हारे खय़लो में । पल पल यादे आत  Read More...

Published on May 6,2020 11:00 PM

प्रिये तुम

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 169 | Likes: 1

:❤️❤️प्रिय तुम❤️❤️: प्रिय तुम हो भोली - भाली । मधुर रव,मंदित पद वाली । उर बृहद ,विशाल दृग वाली। श्यामल - श्यामल अल्को व  Read More...

Published on May 1,2020 10:43 PM

भरभंण्ड़ा

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 147 | Likes: 1

टूटे ,बिखरे ,सतदल पंखुड़ियॉ । अंकुरित हुये नविन कौपल,नवल पंक दल, फूल। बारिस में तो अच्छे लगते हैं ,भरभंण्डे के भी फूल  Read More...

Published on Apr 27,2020 10:07 AM

दिनकर हूँ

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 116 | Likes: 1

मैं दिनकर हूँ ;रोज निकलता हूँ क्षितिज के उस पार । मैेने देखा है निशा के परचिड़ते । घबराता ,विस्मित होता अँधकार । मैं   Read More...

Published on Apr 25,2020 10:00 PM

पंथ न हारो

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 127 | Likes: 1

पथिक तुम पंथ न हारो  बंद हुआ एक द्वारा तो दूसरा गेह निहारो । सुभगे से जीवन में मिलेंगे ,शशि ,सुमन ,कलगी अगणित । कभी क  Read More...

Published on Apr 25,2020 09:54 PM

बेखब़र था

By Ajahar Rahaman in True Story | Reads: 131 | Likes: 1

मैं इस कदर बेखब़र था ,मुझ पर धूप का भी असर न था। कड़कती धूप मचलती रही ; और मेरी ख्व़ाहिश मेरी जिद में बदलती रही। उठाये   Read More...

Published on Apr 21,2020 09:41 AM

मोहब्बत को किरदार बना कर देखो

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 105 | Likes: 1

मोहब्बत में दीदार को किरदार बना करतो देखो । सुना है  ओ पत्थर दिल हैं ,जरा उनसे भी दिल लगा करतो देखो । हमें मोहब्बत ह  Read More...

Published on Apr 18,2020 01:53 PM

मोहब्बत बयॉ करके देखो

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 146 | Likes: 1

दिल में मोहब्बत है तो बयॉ करके देखो । गर शौक - ए - इबादत है तो ,आजां करके देखो । दिल में मोहब्बत है तो बयॉ करके देखो। गर इ  Read More...

Published on Apr 16,2020 10:04 AM

चाहत खोजता हूँ ।

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 159 | Likes: 1

मेरे सीने में दर्द है ,अब राहत खोजता हूँ । मुझे  मुस्कराये हुये जमाना हो गया । आर ज़े माही अब  तो मैं हर शय में तेरी  Read More...

Published on Apr 14,2020 11:19 PM

है नमन उनको ( जलियावाला बाग)

By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 130 | Likes: 1

है नमन उनको आज़ादी की कीमत जिनकी छात है । है साक्षी जिनके लहू का ,प्रत्यक्ष दिवाकर । जिनके रक्त कणो से लिपटी ,जलियाव  Read More...

Published on Apr 14,2020 06:35 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/