Join India's Largest Community of Writers & Readers

Vikas khichar

कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए अपनों का साथ छोड़ देते है॥
कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए अपनों का साथ छोड़ देते है॥

जो लोग मुझसे गद्दारी करते है, मै उनसे प्यार करता हु॥ Read More...

टूटे दिल का आलम

By Vikas khichar in Poetry | Reads: 339 | Likes: 1

 *टूटे दिल का आलम*  उसका खुशी दिल का वो सितम। और मेरे टूटे दिल का वो मातम॥ कैसे बयां करू टूटे दिल का वो आलम। की उसक  Read More...

Published on Apr 8,2020 06:04 PM

उसकी हसीन वो राते

By Vikas khichar in Poetry | Reads: 117 | Likes: 1

               *उसकी हसीन वो राते* कितनी हसीन होती है उसकी वो रात ...... जब होती है उससे दिल की वो बात॥ &nb  Read More...

Published on Apr 8,2020 06:01 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/