Indie Author Championship #6

Manpreet Sarla

ठहराव

By Manpreet Sarla in Poetry | Reads: 94 | Likes: 0

ठहरे हुए पानी में जैसे थोड़ा बहाव ज़रूरी था, भागती दौड़ती इस ज़िदगी में थोड़ा ठहराव ज़रूरी था, ज़रूरी था कि हम अपने अंतर्मन   Read More...

Published on Apr 19,2020 04:57 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/