#National Writing Competition

saurabh saroj

Social warker and author
Social warker and author

प्रेम की मीरा

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 107 | Likes: 0

1-मैं दीवानी श्याम जी की, बांसुरी की धुन -धुन में। पा जाऊं मैं वो मोहन, तेरी उस प्रेम भाव को।। 2- तुम मेरे आगत पीछे, हर पल   Read More...

Published on May 5,2020 12:27 PM

प्रेम की सबरी

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 112 | Likes: 0

1-मन में एक संकल्प लिए तुम, निसदिन पथ पर बढ़ते जाना। प्रेम को पीछे मत छोड़ देना, इसे बोलते गाते जाना।। 2- प्यार किया तो   Read More...

Published on May 5,2020 12:05 PM

प्रेम की चिड़िया

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 119 | Likes: 1

1-आओ हम बच्चे भारत के, भारत को हम स्वर्ग बनाएं। प्रेम प्रीत की भाषा बोले, सोने की चिड़िया बन जाए।। 2- फंख इसके मत नोचो भ  Read More...

Published on May 5,2020 11:51 AM

प्रेम का जगत

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 104 | Likes: 0

1- गर प्रेम तू करता जगत से, संसार भी तेरा सुहाना होता। गर निज -पथ पर बढ़ता जाता, मंजिल को तुझे पाना होता।। 2- करो प्रेम इत  Read More...

Published on May 4,2020 04:37 PM

प्रेम की खुशी

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 100 | Likes: 0

1-हरपल गर खुशी रहना चाहो, औरों को खुशी देना सीखो। हरपल गर सुख पाना चाहो, औरों को सुख देना सीखो।। 2- प्रीत को रीत बना लो भ  Read More...

Published on May 4,2020 04:13 PM

प्रेम से सुंदरता

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 110 | Likes: 0

1-वाणी तेरी सजेगी जितना, उतना सुंदर तू होगा। प्रेम करेगा जितना सबसे, उतना सुंदर तू होगा।। 2- तेरे विचार हो जितने ऊंचे,   Read More...

Published on May 4,2020 03:58 PM

प्रेम का प्याला

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 99 | Likes: 0

1- निशदिन रहो प्यार से भाई, नफरत क्यों फैलाते हो। गर मंजिल की चाहत है तो, बढ़ने से क्यों डरते हो।। 2- बैर, बुराई, चोरी करन  Read More...

Published on May 3,2020 08:21 AM

प्रेम की वाणी

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 97 | Likes: 0

1- हरपल-हरछिन्न प्रेम जो करता,  वो प्रेमी कहलाता है। निशिदिन पथ पर जो बढ़ता जाता, वो पथिक बन जाता है।। 2- प्यार करो संस  Read More...

Published on May 3,2020 08:09 AM

प्रेम का मेघ

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 105 | Likes: 0

1-आओ हम प्रेमी बन जाए, प्रेम-प्रेम में जीवन पाए। जीवन सरल सुलभ हो जाए, तब मंजिल को हम पा जाएं।। 2- बिना प्यार ना होगा सवे  Read More...

Published on May 3,2020 07:52 AM

प्रेम का चंदा

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 89 | Likes: 0

1-आवो हम सब प्यार को कर ले,  प्यार को करके प्यार को ले लो। प्रेम किए बिना कोई नहीं सहारा, प्रेम किया तो सब कुछ तुम्हार  Read More...

Published on May 2,2020 04:44 PM

प्रेम रूपी चाभी

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 101 | Likes: 0

1-प्रेम -प्रीत में बधकर मानव, जीवन सफल बना सकता है। अंधकार तो जाएगा ही, नीचे घर को भी पा सकता है।। 2-कांटे जब चूभे नहीं त  Read More...

Published on May 2,2020 04:29 PM

प्रेम का गहना

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 84 | Likes: 0

1-चलो चले हम इश्क को कर ले, जीवन को हम प्रेम से जीले। प्रेम करो तुम निशदिन भाई, जीवन सुंदर हो शहनाई।।             &nbs  Read More...

Published on May 1,2020 04:24 PM

सफलता का गहना

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 98 | Likes: 0

1-उठो, चलो, और चलते जाना, सच के पथ को मार्ग बनाना। शिक्षा रूपी गहना लेना, गहना लेकर पहन के जाना।। तब सुंदर सा जीवन बन जा  Read More...

Published on Apr 30,2020 05:17 PM

समय का गहना

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 114 | Likes: 1

1-समय के साथ चलो हम चले, जीवन तब मै महकदार बनेगा समय के साथ चलो हम चले, जीवन तब असरदार बनेगा।। समय के साथ चलो हम चले, मंज  Read More...

Published on Apr 30,2020 04:56 PM

शिक्षा रूपी नाव

By saurabh saroj in Poetry | Reads: 96 | Likes: 1

खोज रहा तू सुख का सागर, शिक्षा बिन पाएगा कैसे। जीवन चाहता बड़ा निराला, शिक्षा बिन पाएगा कैसे।।                  Read More...

Published on Apr 30,2020 12:38 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/