#National Writing Competition

Arnav Ajit

ज़िन्दगी एक मोहताज

Books by अर्णव अजित

"ज़िन्दगी एक मोहताज" 

ज़िन्दगी असल में मोहताज ही है सबकी, किसी के उसकी ज़िन्दगी बहुत ऊँचे दर्जे की होती है उससे भी कभी न कभी अपने ज़िन्दगी से नफरत हुई होगी। 

मेरी ये किताब में

Read More... Buy Now

बहुत है

By Arnav Ajit in Poetry | Reads: 88 | Likes: 1

छोटी सी ज़िन्दगी में इम्तिहान बहुत है, बिना कुछ किये, खुद पे इलज़ाम बहुत है, सबका एक दूसरे से फरमान बहुत है,  उम्र कम है   Read More...

Published on Feb 26,2021 06:55 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/