10 Years of Celebrating Indie Authors

Murlimanohar Vyas

The author or to be more precise the poet of this book is lawyer by profession of 52 yeas standing. As Valmiki’s Ramayana was his first poetry so is this book is the first poetry of this book. The author was active politician & went to jail for many times while leading the mass movements. He has visited many countries of the world & is the ardent student of the mythology.Read More...


Achievements

+6 moreView All

वाल्मीकीय रामायण हिंदी काव्यानुवाद - खंड - 4(उत्तर कांड)

Books by मुरलीमनोहर व्यास

वाल्मीकि रामायण के हिंदी में कई गध्ध में संस्करण निकल चुके है लेकिन यह पहली बार है कि किसी महाकाव्य का प्रत्येक संस्कृत श्लोक का हिंदी में पध्धानुवाद ताल, लय एवं गति के अनुसार छं

Read More... Buy Now

वाल्मीकीय रामायण हिंदी काव्यानुवाद - खंड - 3 (युद्ध कांड)

Books by मुरलीमनोहर व्यास

वाल्मीकि रामायण के हिंदी में कई गध्ध में संस्करण निकल चुके है लेकिन यह पहली बार है कि किसी महाकाव्य का प्रत्येक संस्कृत श्लोक का हिंदी में पध्धानुवाद ताल, लय एवं गति के अनुसार छं

Read More... Buy Now

वाल्मीकीय रामायण हिंदी काव्यानुवाद - खंड - 2 (अरण्य कांड , किष्किंधा कांड , सुंदर कांड)

Books by मुरलीमनोहर व्यास

वाल्मीकि रामायण के हिंदी में कई गध्ध में संस्करण निकल चुके है लेकिन यह पहली बार है कि किसी महाकाव्य का प्रत्येक संस्कृत श्लोक का हिंदी में पध्धानुवाद ताल, लय एवं गति के अनुसार छं

Read More... Buy Now

वाल्मीकीय रामायण हिंदी काव्यानुवाद - खंड - 1 (बाल कांड, अयोध्या कांड)

Books by मुरलीमनोहर व्यास

वाल्मीकि रामायण के हिंदी में कई गध्ध में संस्करण निकल चुके है लेकिन यह पहली बार है कि किसी महाकाव्य का प्रत्येक संस्कृत श्लोक का हिंदी में पध्धानुवाद ताल, लय एवं गति के अनुसार छं

Read More... Buy Now

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/