हिंदी

नारीवाद
By debjanibhadra22@gmail.com in Poetry | कुल पढ़ा गया: 119 | कुल पसंद किया गया: 0
ये कैसा फेमिनिज्म का ज़माना है,  उत्श्रृंखलता कि चरम सीमा है,  कहती हैँ हमे जज मत करो,  हम फेमिनिज्म कि मिसाल  है  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 11,2020 04:46 PM
Asthi
By Disha chaudhari in True Story | कुल पढ़ा गया: 215 | कुल पसंद किया गया: 3
Asthi Accha khasa, hasta khelta ek pariwar hota hai jismai ek maa, beta aur bete ke pita hote hai. Pariwar bahot Khushi se rehe Raha hota hai. Vo pita Kam ladke ke dost zyada the dono beta aur pita milke maa ko tang karte the maa hamesha keheti,  "ki Mai ek Nahi 2 bachon ko sambhalti hoon bas U  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 11,2020 05:03 PM
Adhura izhaar..
By Disha chaudhari in True Story | कुल पढ़ा गया: 213 | कुल पसंद किया गया: 2
 Adhura Izhaar...  Ek ladka hota hai aur ek ladki Hoti hai dono kafi acche dost hote hai sirf naam keliye, kyuki kahani Kuch aur he bayan Karti hai.....  Darasal ladka ladki se bepennah mohabaat Kar Raha hota hai magar ladka Kabhi apni mohabaat Ka izzhar karta Nahi hai Kabhi dosti kho  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 11,2020 09:43 PM
मैं कहाँ जाऊँ?
By Harshit Ranwal in Poetry | कुल पढ़ा गया: 86 | कुल पसंद किया गया: 0
बदलते वक्त की गाड़ी अब भी मेरी गली छोड़ कर गुज़र जाती है, मैं उस भीड़ का हिस्सा हूँ जो हिंदुस्तान कहलाई जाती है।तुम जो फे  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 11,2020 09:53 PM
तड़पन
By Virgin Heart in Romance | कुल पढ़ा गया: 92 | कुल पसंद किया गया: 1
किसी से प्यार करना या अपने प्यार के लिए किसी के पीछे भागना प्यार नहीं होता, प्यार तो वो होता है , जिसमें हम हमेशा डूबे  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 11,2020 11:40 PM
गुज़ारिश
By Virgin Heart in Poetry | कुल पढ़ा गया: 87 | कुल पसंद किया गया: 1
कुछ अनकही बाते है जो मैं बयान करना चाहता हूं, मन में बहुत सारे सवाल है जिनके मैं जवाब ढूंढ़ना चाहता हूं, अगर इस स्थित  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 11,2020 11:44 PM
माफी
By Virgin Heart in Poetry | कुल पढ़ा गया: 95 | कुल पसंद किया गया: 1
माफी मांगता हूं , जब पहली बार बात करने वक्त होट लड़खड़ाने लग गए थे, माफी मांगता हूं, जब भी आपसे मिलता हूं तो कुछ ना कुछ   ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 11,2020 11:46 PM
Ghadi ki suiyan
By Rey Han in Poetry | कुल पढ़ा गया: 136 | कुल पसंद किया गया: 0
Bataya nahi kisineKe ghadi ki suiyanPairon ki tarah chalti hai,.Jitni chal rahi haiUtna hi main sabseBichhadta ja raha hun....Saath jiskoMera laazmi tha,Durie unse aaj aazmi hai....Bhul gaya hun mainKaise baat karu unse,Baatein meriKhatam na hoti thi jinse....Kaash in suiyon koWapas ghuma sakta,Waqt  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 01:24 AM
Bhul jaunga
By Mohit Satpathy in Poetry | कुल पढ़ा गया: 82 | कुल पसंद किया गया: 1
Ye jo tm baar baar mere khayalon mein chali aati ho, bhula du tumhe mai sayad ye tm khud bhi na chahti ho.... Har raat teri tasveeron ko dekh , mai pagalo ki tarah kuch na kuch kehta hu, arso se unn bete lamho mein hi khoya rehta hu. Mai ab tere liye kuch aur likhna nhi chahta , par Kalam yeh meri  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 11:48 AM
विषमृत्
By MAHFUZ nisar in Poetry | कुल पढ़ा गया: 77 | कुल पसंद किया गया: 1
विषमृत्हर चीज़ तैयार खाने के रूप में हमें मिलती है,जो कभी तो स्वादिष्ट होती है,कभी नहीं, दोनों स्थिति में हम इंतज़ा  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 02:14 PM
Pastry
By MAHFUZ nisar in True Story | कुल पढ़ा गया: 93 | कुल पसंद किया गया: 1
Pastryहमारे ऑफिस में एक कूलिग का बर्थडे था,मैं एक नॉन गवर्नमेंटल ऑर्गंनाइजेशन में कर्म करता हूँ,कर्म शब्द इसलिए कि यह  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 02:17 PM
उसका क्या कसूर
By Chitransh Srivastava in Poetry | कुल पढ़ा गया: 101 | कुल पसंद किया गया: 1
गर्भ में ही उससे पीछा छुड़ाते गर जो बच गई जन्म तक तो जन्म के बाद उसे कचड़े के ढेर में फेंक आते किस्मत से अगर मां बाप न  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 03:06 PM
कोरोना से दो बातचीत
By Ayush Raj in Poetry | कुल पढ़ा गया: 95 | कुल पसंद किया गया: 0
।। कोरोना से दो बातचीत ।। तू काल नही हैं ...फिर तुझसे कैसे डर जाऊँ मैं ...तू यम का दलाल नही हैं ...चारो तरफ आज अंधेरा हैं ।   ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 03:10 PM
Teri Purani Tasvir
By Hrishikesh S PEDNEKAR in Poetry | कुल पढ़ा गया: 122 | कुल पसंद किया गया: 0
Mili aaj teri woh tasvir purani, Aur phir woh samaa laut aayaa. Kafila chala unn baaton ka, Tanhaa mujhe phir chod aayaa. Karvat badli zindagi ne ki mod aayaa, Bas yaadein saath leli, Baaki sab wahi chod aayaa..  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 05:37 PM
इतना खुदगर्ज़ नहीं हैं ये प्यार
By Pooja Madame in Poetry | कुल पढ़ा गया: 166 | कुल पसंद किया गया: 6
अगर साथ हो मेरे तो सब साथ साथ ही चलेंगे  तुझे सब से दूर करके हम क्या पाएंगे . तुझसे&n  ज्यादा पढ़ें...
इस तारीख़ को पब्लिश हुआ May 12,2020 06:13 PM