Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Dwidhara / द्वीधारा Ganga Se Godhavari / गंगा से गोदावरी

Author Name: Mrs. Suman Gopal Dube | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

द्वीधारा 

गंगा से गोदावरी

“मोती बनेगी जो बूंद स्वाती की,

बादल से उसको चुराओ दोस्तो

जिनमे रंग हो दोस्ती का

उन्ही, फूलो को दिल मे खिलाओ दोस्तो”

 

  प्रस्तुत काव्य संग्रह में मैंने गज़लों को जहाँ मुख्य स्थान दिया वहीं मेरी मुख्य कविताएं भी है एक ओर जहा मुक्तक हैं वही मुक्त अश्आर भी है जिनमें अलग अलग भाषा भावों  का मेल है तो इस में मेरे चंद चुनिंदा हायकु है जो आपका मन मोह लेंगे। 

इस काव्य संग्रह को आप सभी को समर्पित करते हुए मैं  स्वंय को  सौभाग्यशाली समझती हूँ।

Read More...
Paperback
Paperback 155

Inclusive of all taxes

We’re experiencing increased delivery times due to the restriction of movement of goods during the lockdown.

Also Available On

सौ. सुमन गोपाल दुबे

नाम : सौ. सुमन गोपाल दुबे 

जन्म : 7 अक्टूबर 1978

स्थान : पाचोरा महाराष्ट्र 

शिक्षा : एम ए (हिंदी) हिंगोली 

पता :  माँ भगवती निवास  

      बियाणी नगर हिंगोंली 431513 महाराष्ट्र 

 

प्रकाशित कलाकृतियाँ सहभागिता 

        १ विश्वास का सूरज (काव्य  संग्रह) 2020

        २ गजलें नयी सदी की ,

        ३ शुभारंभ , 

        ४ पहचान एक प्रयास 

अन्य प्रकाशन 

 

१ हिंदी राष्ट्र भाषाप्रचार समिती वर्धा की पत्रिका में माँ हिंदी के लिए  रचनाओं का प्रकाशन 

२ मेरे गीतों में तुम, तथा  मेरे  कुमार... 

३ हिंगोली की आवाज, तथा रायपुर में विभिन्न वर्तमान पत्र पत्रिकाओं में  रचनाओं का  प्रकाशन

Read More...