Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

HINDUPHOBIA / हिंदुफोबिया in the skin of secular to cage the golden phoenix

Author Name: Kumar Samvad | Format: Paperback | Genre : Others | Other Details

 इस पुस्तक में भारत का इतिहास सम्मिलित है, इसमें वर्तमान के तथ्य भरे हुए हैं, इसमें भविष्य के भारत की कल्पना है और इन सभी को देखने की कई दृष्टि भी हैं। पुस्तक को कहानी साहित्य कहने के पश्चात भी यह पुस्तक कई विषयों पर मौलिक चर्चा करती हुई तथा नए सिद्धांत प्रस्तुत करती हुई अवश्य दिखाई देगी, कुछ नए गढ़े हुए शब्द भी दिख सकते हैं लेकिन यह अपने उद्देश्य में स्पष्ट है।
यह पुस्तक भारत के दिशा हीन और उद्देश्य हीन समाज के लिए लिखी गई है ताकि भारतीय संस्कृति में विश्वास रखने वाला प्रत्येक व्यक्ति भारत के भविष्य के लिए अपनी चेतना में कुछ उद्देश्य रखकर कार्य कर सके। इसलिए इस पुस्तक का स्थान किसी बहुत बड़े इतिहासकार या बुद्धिजीवी के पुस्तकालय में नहीं है। इसका स्थान भारत के सामान्य जन के हाथों में है। मैं इस पुस्तक को भारत की संस्कृति में विश्वास रखने वाले प्रत्येक व्यक्ति तक नहीं पहुंचा सकता हूं इसलिए इसके संदेश को भारत के प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचने का दायित्व भी पाठकों को लेना होगा।

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback + Read Instantly 335

Inclusive of all taxes

Delivery by: 7th Feb - 10th Feb
Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

कुमार संवाद

  मेरी अकादमिक पृष्ठभूमि कुछ लोगों के लिए मेरे कार्य को विश्वसनीय बना सकती है। मेरी आयु मेरी परिपक्वता या अपरिपक्वता की माप बन सकती है। लेकिन यह पुस्तक तब ही अपनी सही आलोचना को प्राप्त कर सकेगी जब इसको एक साधारण व्यक्ति द्वारा लिखी गई एक पुस्तक माना जाए और प्रत्येक पाठक इस पुस्तक की आलोचना का पात्र माना जाए। पुस्तक लिखना मेरा कार्य था, जो मैं कर चुका हूँ। यह पुस्तक आपके हाथ में है और इस पुस्तक की आलोचना भी, जो आपका कार्य है।
instagram:- @kumar.samvad
tweeter:- @kumar.samvad
youtube:- @कुमारस्य संवादम्

Read More...