#National Writing Competition

Share this product with friends

Meri Awaaz / मेरी आवाज़ दिल की गहराइयों से/ DIL KI GEHRAIYON SE

Author Name: Shweta Devpura Dargar | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

कु छ शब्द मेरे
इस संकलन में संकलित कविताओं के माध्यम से
लेखिका ने बड़े ही सरल शब्दों में जीवन और उसके
विभिन्न रंगों को दर् शाने का प्रयत्न कि या है। समाज
में पनप रहे आतंकवाद, बलात्कार जैसे घिनौने पाप
और वंश के नाम पर लड़के और लड़कि यों में हो रहे
भेद-भाव जैसे मुद्दों पर प्रकाश डाला है। रिश्ते जो
इंसान के जीवन का सबसे बहुमूल्य हि स्सा है, उस पर
अपनी रचना के रंग बिख ेरे हैं। एक औरत के जीवन
का सबसे बड़ा सुख-मात्रत्व का सुख होता है। उस
सुख से वंचि त रहने की पीड़ा को लेखिका ने शब्दों में प्रस्तुत करने का प्रयास कि या है।
लेखिका अपनी आवाज़ आप तक पहुँचाने में कि तनी सफल रही, इसका फ़ै सला पाठक स्वयं करे।

Read More...
Paperback
Paperback + Read Instantly 125

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

श्वेता देवपुरा दरगड़

आपका जन्म 22 अगस्त 1981 को आगरा शहर में हुआ। मूलतः राजस्थान के उदयपुर
शहर की निव ासी हैं और शादी के बाद से ही नवी मुंबई में हैं। पेशे से कं पनी सेक्रे टरी
हैं और अपने पति जो कि चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं उन्हीं के साथ प्रॅक्टीस कर रही ं हैं। लेखन
के प्रति रूचि खानदानी है। स्कू ल एवं कॉलेज में अनेक प्रति योगि ताओं में भाग लिया एवं
पुरुस्कार जीते। वाद-विवाद का भी शौक है एवं वाद-विवाद प्रति योगि ता में नॅशनल लेवेल
तक गये। कविता लिख ने का सि लसि ला कॉलेज के दि नों से ही शुरू कि या था पर सही मायनों में पि छले 4 सालों
से शुरू कि या। कविता लिख कर फ़े सबुक और अन्य सोशल साइट्स पर पोस्ट करी और लोगों की तारीफ ने
प्रोत्साहि त कि या और इसी से प्रेरित होकर कई विषयों पर कविता लिख ी।
आपकी लेखन शैली बहुत ही साधारण पर सशक्त है। आपका स्वप्न था कि यह रचनायें सिर्फ़ जानकारों तक
ही नही ंअपि तु पूरी दुनि या तक पहुँचें , नोशन प्रेस के संपर्क में आना अपने सपनो ं को पूरा करने का सुनहरा
अवसर है। आपकी कविताओं को सभी का प्यार और प्रोत्साहन मि लें, इसी उद्देश्य से यह प्रथम प्रयास कि या
जा रहा है।

Read More...