Join India's Largest Community of Writers & Readers

Smt. Urmila Sheokand

Writer, Motivational Speaker and a keen listener.
Writer, Motivational Speaker and a keen listener.

लेखन एक ऐसी कला है जो हमें कलम के माध्यम से जीवन , समाज , प्रकृति इत्यादि से रूबरू कराती है। मैं स्वयं अपनी कलम के जरिये प्रत्येक वस्तु से जुड़ाव महसूस करती हूँ। कुछ लोगों का कहना है कि लेखक सिर्फ खुद के सुख दुख भाव ही लिखता है। लेकिन मेरा ऐसा मानना है की हम अपने आसपास जो देखते हैं , हमारे अन्दर वैसे ही भाव उमड़ते हैं। उन उमड़े जज्बातों को हम कोरे पन्नों पर शब्दों का रूप देते हैं। स्वतन्त्र लेखन में दिल के जज्बातों को खूबसूरती से लिखा और महसूस किया जाता है। दूसरी ओर भाव की अभिव्यक्ति अगर सरल शब्दों में हो तो पाठक के मन को छू जाती है। मेरी कोशिश यही रहती है कि अपने लेखन को भाव प्रधान रखते हुये सरल भाषा का प्रयोग करूं। अपने शब्दों को विराम देते हुये इतना ही कहूंगी.........
                   
पढ़ते रहे किताबों में  दूसरों के जज्बातों को
खुद को कभी पढ़ा नहीं ढ़ोते रहे हालातों को
दे सकते थे जवाब मगर चुनते रहे सवालातों को

Read More...

लफ़्जों का गुलदस्ता

Books by लेखिका श्रीमती उर्मिला श्योकन्द

मेरी चित्कला कोरे कागज पर शब्दों की माला पिरोती है। गृहणी हूँ अतः प्रत्येक लेखन में कहीं खुबसूरत जिन्दगी के अहसास हैं तो कहीं रिश्तों की खुशबू है। कहीं तन्हाईयों का आलम है तो कही

Read More... Buy Now

नूर-ए-आफ़ताब

Books by श्रीमती उर्मिला श्योकन्द

हमारे देश में बहोत से महान शायर हुये हैं। जो भी थोडा बहुत मैंने उन्हे पढा है उसी से सीिकर अपनी#नूर-ए-आफ़ताब* पुस्तक में र्लिने की कोर्शश की है। महान शायरों के आगे मैं ततनका मात्र हू

Read More... Buy Now

उत्सव : कविताओं की कुसुमावली

Books by श्रीमती उर्मिला श्योकन्द

हिन्दी हमारी मातृभाषा तो जरूर बन गई है लेकिन हम लोग इस पर ध्यान कितना देते हैं वो देखने वाली बात है .... बाहर के देश... चीन हो या जापान ... जर्मनी...फ्राँस ... इटली.. आस्ट्रिया... रूस आदि जैसे दे

Read More... Buy Now

बेटी की पाती

Books by श्रीमती उर्मिला श्योकन्द 

मेरी दुसरी पुस्तक "बेटी की पाती" को मैंने मेरी माँ और पिताजी को समर्पित किया है। माँ बच्चों की गुरु होती है । जिनके साये में बच्चों को अच्छे संस्कार मिलते हैं। मेरे लिये दोनों ही म

Read More... Buy Now

इज़हार

Books by श्रीमती उर्मिला श्योकन्द

मेरी यही कोशिश रहती है कि मैं आम जनता को अपने स्वतन्त्र लेखन के माध्यम से अपने जज्बात पहुंचा सकूँ । प्रथम प्रयास है ... इस पुस्तक को मैनें #इज़हार का नाम दिया है । अनेक नज़्म तथा छोटी -

Read More... Buy Now

#मानवता सबसे बड़ा धन है

By Smt. Urmila Sheokand in Supernatural | Reads: 277 | Likes: 3

लघू कहानी ........ #मानवता सबसे बड़ा धन है कुछ दिन पहले ही पति का तबादला दिल्ली हुआ । वो एक प्राईवेट कम्पनी में इंजीनियर   Read More...

Published on Mar 27,2020 12:08 AM

ज्ञान का प्रकाश

By Smt. Urmila Sheokand in Supernatural | Reads: 1,555 | Likes: 19

ज्ञान का प्रकाश कभी कभी मन क्याें बैचेन होता है... वह भी इस हद तक की ना कुछ बात करने का मन है ना ही कोई काम करने का। ऐसे ल  Read More...

Published on Mar 22,2020 09:51 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/