10 Years of Celebrating Indie Authors

Vijay Kumar Singh

Author and Poet
Author and Poet

Vijay Kumar Singh was born in 1961. He is a Science graduate who is passionate about literature and poetry, especially Hindi. He also loves History and Philosophy. His published works are Shunahshep and Nachiketa (poetry), Kalyani (poetry), and Nepathya Mein Goonjte Shabd (poetry collection). His upcoming book is Chitralekha (poetry collection).  Read More...


Achievements

+1 moreView All

कल्याणी

Books by विजय कुमार सिंह

काल्पनिक  कथा  पर  आधारित  यह  काव्य  कल्याणी,  विभ्रमित  ज्ञान  से  क्रिया  की,  काम - वासना  से  निश्छल  प्रेम  की,  कामना  से  कर्म  की,  वासना  से  

Read More... Buy Now

शुनःशेप एवं नचिकेता

Books by विजय कुमार सिंह

शुनःशेप कथा है भाग्य की, कर्म की, एवं करुणा की । यह कथा है एक निर्धन ऋषि पुत्र की जो  अपने पिता द्वारा बेच दिया जाता है । उसकी माता तक उसकी रक्षा नहीं करती । हर तरफ से लाचार शुनःशेप

Read More... Buy Now

नेपथ्य में गूँजते शब्द

Books by विजय कुमार सिंह

नेपथ्य में गूँजते शब्द वृतान्त है मनुष्यता की। मनुष्यता के हर पहलू को समेटे ये 46 कविताएँ, प्रेम एवं सौंदर्य की,संघर्ष एवं समर्पण की, आत्मा एवं वासना की, प्रेरणा एवं ढृढ़ निश्चय की

Read More... Buy Now

शिकारी कौन

By Vijay Kumar Singh in Mystery | Reads: 830 | Likes: 6

एक छोटा सा गाँव था। उस समय लगभग पाँच सौ घर रहे होंगे। यह 1970 के दशक का समय था। यह कहानी बिलकुल मनोरंजक है और ग्रामीण पर  Read More...

Published on Jul 9,2022 11:14 PM

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/