Veerendra Shivhare ‘Veer’

Veerendra Shivhare weaves simple yet profound thoughts into captivating Urdu/Hindustani poetry. His soul-stirring verses give a glimpse of an intense yearning that each one of us is familiar with. Being a serial entrepreneur, ghazal aficionado, spiritual seeker and urdu poetry lover, ‘existence- in it’s purest form' Veer's undeterred muse and meaning. Veeransh is his first book of poems. Veer lives in Bangalore.

 

वीरेंद्र शिवहरे, शायरी के लहजे में ‘वीर’ की शायरी अल्फ़ाज़ की सरहदों को पार करके अक्सर रूहानियत का लिबास पहन लेती है| हालांकि ‘वीरांश’ उनका पहला कविता संग्रह है पर उनके लफ़्ज़ों में ज़ाहिर होती ख़लिश किसी ना किसी रूप में हम सब ने महसूस की है|

हर शेर पढ़ते वक़्त लगता है जैसे इन पन्नों पर अपनी ही कहानी बयाँ है|

ख़यालों की गिरहों को लफ़्ज़ों से खोलना बड़ी शिद्दत का काम है और वीर इसे कुछ ऐसी आसानी से करते हैं, कि पढ़ते वक़्त, कई बार लगता है जैसे अपना ही कोई हिस्सा भीतर से बोल रहा हो|

हर रचना अपने आप में अनोखी है और पढ़ने वाले के ज़हन में उथल-पुथल मचाने का हौसला रखती है| इन रचनाओं में उम्मीद है, दर्द है, सवाल हैं, ज़हनी दिलासे हैं और सोच के कुछ ऐसे सिरे हैं जो एक बार हाथ लगें, तो छूटने का नाम नहीं लेते|

कोई परत उतार कर देखिये, वीर की ख़लिश आपको अपने आप में भी ज़रूर मिलेगी|

 

यह कविता संग्रह, जिस हाथ में जाएगा, यकीनन उस रूह का रंग इसमें नज़र आएगा|

Read More...

Veeransh

Books by Veerendra Shivhare ‘Veer’

Veeransh is a book of Urdu/Hindustani poetry that puts forth powerful facets of human sensibility. Each poem makes one ponder over the inherent honesty that is often overlooked in the chaos of life. Artfully segregated into sher, ghazal, nazm and geet, Veeransh is an epitome of life, love and longing. You will not just connect to these poems, they have the ability to stay with you even after you are done reading t

Read More... Buy Now Read Sample

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/