Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Abhivyakti / अभिव्यक्ति

Author Name: Priya Ranjana Panjiyar Gupta, Indrani Panjiyar, Beauty Panjiar | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

प्रस्तूत पुस्तक 19 वी सदी के समसमायिक समस्याओं से जुड़ी हुयी है। महिलाओं एवं कमजोर वर्ग के उत्थान तथा सामाजिक कुरीतियो कें खिलाफ एक आवाज है। पुस्तक  हमारें परिवेंश का आइना हाती है ,जिससे हम अपने अक्स को पहचान पाते है, तभी हमारा समाज परिशुद्ध हो पाता है। मनुष्य आध्ुानिक होने खुद को प्रभाव पूर्ण बनाने में कितना कुछ अनिष्ट करता चला जाता है, जो शायद स्वम् को भी भान नही रह पाता है। इन्हीं सब बिन्दुओं पर प्रकाश डालती ये कविताये है।

Read More...
Paperback
Paperback 149

Inclusive of all taxes

Delivery

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

प्रिय रंजना पंजियार गुप्ता, इन्द्राणी पंजियार, ब्यूटी पंजियार

प्रिय रंजना पंजियार गुप्ता, उम्र लगभग 53 वर्ष, । वनस्पति शास्त्र से एम एस सी एवम् एल एल बी की शिक्षा प्राप्त की। उच्चशिक्षा के द्वौरान ही इनकी सांस्कृतिक एवम् साहित्यिक गतिविधियाॅ मुखर हो कर सामने आई। मैं जन्म लेना चाहती हूॅ- एक नाट्य की रचना इनके द्वारा की गई जिसे निर्माण कला मंच नाट्य संस्था के वैनर तले  इनके ही निर्देशन में मंच पर दर्शाया गया।वर्तमान में योजना एवम् विकास विभाग में ंकार्यालय सहायक के रुप में कार्य कर रही है। प्र्रस्तूत पुस्तक में अकित इनकी कविता 1984-96 के समय अबधि के बीच की है।ये कविताएॅ तत्कालिन समस्याओ सामाजिक परिवेश में घट रही घटनाओ से प्रभावित है।

इन्द्राणी पंजियार, उम्र लगभग 50 वर्ष, हिन्दी में इन्होंने एम ए तथा एल एल बी की डिग्री प्राप्त की र्वतमान में ग्राम पंचायत में न्याय मित्र के पद पर पदस्थापित है साथ ही मेडिटेशन एवम््ा् हिलिंग के क्लासेस आर्गनाइज करती है। ये एक वक्ता कवियित्री लेखिकी एवं रंगकर्मी है।इनकी शैली सहज और प्रवाह युक्त है।इनकी रचना समसमायिक घटना क्रमों से प्रभावित एवं जीवन के मूल तत्वों से जुड़ी हुई है। 

ब्यूटी पंजियार, उम्र लगभग 38 वर्ष, इतिहास में एम ए की शिक्षा प्राप्त की। वर्तमान में केन्द्रीय विद्यालय हाई स्कूल में शिक्षिका के पद पर कार्य रत है।साथ ही इन्हें ताइक्मांडो में ब्लैक बेल्ट प्राप्त है। शहर के बच्चों  एवं छात्र-छात्राओ को लगभग 20 वर्षो से ताइक्मांडो का प्रशिक्षण प्रदान कर रही है। योग प्राणायाम विद्या की ट्रेनर है। अपनी कविता के माध्यम से इन्होंने मन मे उठ रहे तरंगो को शब्दों में ढालने की कोशिश की है।

Read More...