10 Years of Celebrating Indie Authors

Share this book with your friends

Hawa Dheere Aana / हवा धीरे आना

Author Name: Chanchal | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

कहानी शुरू होती है दिल्ली के दरियागंज से | छोटी सी लड़की शीनू दरियागंज की एक हवेली में संयुक्त परिवार के बीच पली बड़ी | माँ को बस एक ही परेशानी है कि ये लड़की जब देखो लडको के साथ ही समय बिताती है | लड़कियों वाली तो कोई लक्षण ही नहीं इसमें | अब शीनू करे भी तो क्या करे? उसे गुड्डे गुड़िया से खेलना एकदम पसंद नहीं | उस के बदले मोहल्ले के लडको के साथ लाल किले में क्रिकेट खेलना ज्यादा अच्छा है | मस्ती भी तो खूब होती है लडको के साथ | कभी पुरानी दिल्ली के गलियों में मस्ती | कभी दरियागंज थाने के बाहर बने चबूतरे में बैठ कर दोस्तों के साथ गप्पे और साथ में पकोड़े खाना, वो भी थानेदार के भेजे हुए | 

लेकिन समय अपनी इच्छा मुताबिक तो नहीं चलता है | अपने बड़े पापा, बड़ी माँ, बाबा, माँ, चाचू चाची, दीदी, भैया की लाड़ली; छोटी उम्र में ही दुनियादारी को समझने लग गई थी | बड़े पापा जैसे कहते है कि मेरे  बच्ची को सब लोगो ने खींच के बड़ा कर दिया है | अब हालात ही कुछ ऐसे हो तो शीनू क्या करे ? कहते हैं कि  समय के  बहाव के साथ बह जाना ही तो  ज़िन्दगी है | परिवार में ऊंच नीच तो लगा ही रहता है | दीदी के शादी के बाद जैसे हवेली में आफत का पहाड़ टूट पड़ा |  हंसता खेलता एक परिवार टूटी हुए माला के मोतिओं की तरह बिखर गया | एक जीनु दादू ही है जिनसे शीनू अपनी दिल की बात बाँट लिया करती थी | अब ये जीनु दादू भी अजीब है | अपने आप को जिन्न तो कहता है लेकिन जिन्न वाली कोई हरकत  उनमे है नहीं | बस नाम का जिन्न | वो भी कह रहा था कि शीनू जब बड़ी हो जाएगी तब जीनु दादू भी उससे बातें करने नहीं आएंगे | ये भी कोई बात हुई ?

Read More...
Paperback
Paperback 230

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

चंचल

चंचल दास, अपने मार्केट रिसर्च इंडस्ट्री में दादा के नाम से जाने जाते है | कई दशक से इस इंडस्ट्री में काम करने के पश्चात, अपनी  पत्नी के साथ पिछले १४ साल से अपनी एजेंसी सफलता पूर्वक चला रहें है | संगीत में उनकी रुची शुरू से थी |  कुछ सालो से बाकायदा सैक्सोफोन बजाना शुरू किया है | आजकल  अपने करीबी दोस्तों द्वारा सराहे जाने के बाद उनकी ही छोटी  मोटी  महफ़िलो  में सैक्सोफोन बजाया करते है | लेकिन आत्मप्रचार से कतराते है | यही वजह है कि उन्होंने  कभी भी अपनी दुनिया से बाहर निकलकर इसकी नुमाइश नहीं की | 

अब बात साहित्य की आई तो यूँ कह सकते है कि, पिछले कई सालो से वो बांग्ला में कहानियां लिखते आ रहें हैं  और  अलग-अलग वेबसाइट में प्रकाशित करते आ रहें हैं | हिंदी में लिखा  उनका  पहला  उपन्यास 'देवगांधारी', २०१९ में प्रकाशित हुया था  | पाठको ने उस उपन्यास को काफी सराहा और आशातीत सफलता के पश्चात उन्हें  अगला  उपन्यास लिखने के लिए प्रेरित किया  | उनके उपन्यास में नारी चरित्र की  अहम भूमिका रहती है | बाकि चरित्र, प्रमुख नारी चरित्रों के इर्दगिर्द रहते है | ऐसा  लगता है कि वो शायद बांग्ला के साहित्य सम्राट  श्री शरत चंद्र चट्टोपध्याय या श्री बिभूतिभूषण बंदोपाध्याय  से प्रेरित  हैं | हालाँकि ये निष्कर्ष तो पाठक ही तय करेंगे |

Read More...

Achievements