#National Writing Competition

Share this product with friends

Katha Gita / कथा गीता जागतिक मैत्री की ओर बढ़ते कदम

Author Name: Chandan Sukumar Sengupta | Format: Paperback | Genre : Educational & Professional | Other Details

गीता से हम श्री मदभागवत गीता का विषय ही समझते हैं | वह तो अपने आप में ही एक पूर्ण ग्रंथ है | उस ग्रंथ के ज़रिए किसी भी व्यक्ति जीवन को सजाया और सँवारा जा सकता है | उस ग्रंथ के अतिरिक्त और भी कई संकलन में गीता हमारे जातीय संस्कृति में समय समय पर पनपता रहा और विकसित होता रहा | उन संकलनों को हम भुला ही चुके हैं | किसी शास्त्रीय व्याख्यान में शायद ही उन संकलनों पर चर्चा होते हों |

          

Read More...
Paperback
Paperback 200

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

श्री चंदन सुकुमार सेनगुप्ता

हमें इस बात का पूरा विश्वास है कि कथा गीता किसी भी भक्त वत्सल के मन में ईश्वर और ऐश्वरिक सत्ता के प्रति एक गहरा अनुराग पैदा करेगा | उनके मन में एक ऐसी आकांक्षा का जागरण होगा जिसके ज़रिए ईष्ट का सान्निध्य अनुभव करने लायक समर्थ होते हुए खुद के प्रतिभासित होते रहने का विषय अनुभव कर सकेंगे |

हमारे पास जो भी शरीर तंत्र और संवेदना तंत्र है उसके बल पर हम किसी बाहरी उद्दीपनाओं को अनुभव कर सकते हैं, पर हमारे अन्तर मान में पनपने वाले उद्दीपनाओं को अनुभव नहीं कर पाएँगे | यही कारण है कि हम समग्र चेतना से हमारे आत्मिक धरातल पर परमात्मा का सहावस्थान अनुभव ही नहीं कर पाते हैं | उसे अनुभव कर पाने के लिए सरलता, सादगी और निष्ठा के साथ साथ विश्वास का होना भी ज़रूरी है |

Read More...