10 Years of Celebrating Indie Authors

Share this book with your friends

Na jaye koi jaan rebiz se / न जाए कोई जान रेबीज से

Author Name: Dr. Ashok Banga & Dr. Shreshtha Banga | Format: Paperback | Genre : Health & Fitness | Other Details

यह पुस्तक विज्ञान की जीत के विषय में है, फिर भी हम कैसे भूलें, जरूरतमंदों तक इसका लाभ पहुंचाने में हमारी प्रणाली की विफलता, जो साल दर साल 55000 से अधिक मौतों के लिए जिम्मेदार है? रेबीज से अब कोई जान क्यों जाए, जब हमारे पास जीवन की रक्षा के सभी साधन हैं? विकसित देशों ने भले ही रैबीज से काफी हद तक छुटकारा पा लिया हो लेकिन विकासशील देश अभी भी पीड़ित हैं।

यह सच है कि रेबीज एक निश्चित मौत की सजा है लेकिन साथ ही यह भी याद रहे कि यह 100 प्रतिशत रोकथाम योग्य बीमारी है।

यह पुस्तक उन सभी सवालों के जवाब देने के लिए है जो किसी रेबीज आशंकित के मन में आते हैं जब कोई संतोषजनक जवाब देने वाला नहीं मिलता, जिससे घबराहट और यहां तक ​​​​कि मानसिक समस्याएं भी हो जाती हैं। यहां तक ​​कि कई स्वास्थ्यकर्मी भी नवीनतम सिफारिशों से अच्छी तरह वाकिफ नहीं हैं क्योंकि प्रत्येक रोगी की अपनी अनूठी स्थिति होती है। लोग सोशल मीडिया में जवाब खोजते हैं और भ्रमित हो जाते हैं। आधी-अधूरी और प्राय: भ्रामक जानकारी अति आवश्यक होने पर सरल प्रबंधन को भी विलंबित और जटिल बना सकती है। प्रत्येक रेबीज मृत्यु हमारे ज्ञान और हमारी स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली की विफलता है।

लेखक, जो इस मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक ज्ञान-साझाकरण मंच- 'क्वोरा' पर कई वर्षों से सवालों के जवाब देते आ रहे हैं, ने पूरे विषय को बहुत आसान, दिलचस्प, बिंदु से बिंदु, और बिना किसी अकादमिक बाजीगरी के समझाया है। यह पुस्तक सरल भाषा में बहुत अच्छे से समझाती है कि अब रेबीज से हर जान बचाई जा सकती है, जब हमारे पास सभी साधन उपलब्ध हैं।

Read More...
Paperback
Paperback 249

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

डॉ. अशोक बांगा & डॉ. श्रेष्ठा बांगा

डॉ. अशोक बांगा एक बाल रोग विशेषज्ञ हैं, जिनके पास रोगियों का इलाज करने और विभिन्न चिकित्सा स्थितियों में जनता की कठिनाइयाँ जानने का 4 दशकों का अनुभव है| 

उनका मानना ​​​​है कि हर डॉक्टर का जरूरी काम मरीजों को शिक्षित करना और उन्हें जटिल चिकित्सा स्थितियों को आसानी से समझने में मदद करना भी है। इसे प्रभावी ढंग से करने के लिए जटिल विज्ञान की सरल सलाह की आवश्यकता होती है जिसे कोई भी समझ सके और लागू कर सके।

उन्होंने बाल रोग सलाहकार, बाल चिकित्सा संगठनों में एक राष्ट्रीय नेत्रत्व, एनआरडीसी से राष्ट्रीय पुरस्कार के साथ एक आविष्कार, 4 चिकित्सा पुस्तकों के लेखन  और कई अन्य पुस्तकों के लिए योगदान, इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स (आईएपी) प्रकाशनों के संपादन में क्षमता का सम्मान पाया है। Quora के एक शीर्ष-लेखक (2018) के रूप में उनके उत्तरों को 95 लाख से अधिक बार देखा गया है।

डॉ. श्रेष्ठा बांगा, विस्कॉन्सिन, अमेरिका में कार्यरत, अमेरिकन बोर्ड द्वारा सर्टिफाइड बाल रोग विशेषज्ञ हैं| सामाजिक चिकित्सा और सुरक्षा का विचार और मुख्यतः बच्चों मे होने वाली ऐसी बचायी जाने योग्य बीमारी का सही प्रबंधन उनका भी विचारणीय मुद्दा है|  

Read More...