Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

PANDERA / पंदेरा novel

Author Name: Dr RAJESHWAR UNIYAL | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

हालांकि पहाड़ों में जीवन को जीना बहुत ही कठिन होता है, परन्तु वहां की प्रकृति, प्राकृतिक सौन्दर्य, लोगों का भोलापन व आत्मसंतोषी जीवन बहुत ही लुभावना सा लगता है । जिधर भी देखें, सब सुंदर ही सुंदर दिखता है । सुंदर है तन, सुंदर है मन, सुंदर है यहां जन-जीवन, सुंदर नदियां, सुंदर पर्वत, सुंदर हैं नगर-वन-उपवन । अब अगर पहाड़ों की समस्त सुंदरता का वर्णन किसी प्रतीक के रूप में करना हो या वहां की संस्कृति, सभ्यता व परंपरा को निकट से देखना हो तो अपने जीवन का एक दिन पहाड़ों के किसी भी गांव के पंदेरे पर बिता दो । बस उस पंदेरे में आपको पूरे गांव का सम्पूर्ण परिवेश दिखने को मिल जाएगा । पंदेरा उत्तराखण्डी लोक शब्द है । पंदेरा का अर्थ है, गांव का पनघट अर्थात गांव का प्राकृतिक जलस्थल । सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक पंदेरे में हलचल सी मची रहती है

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 200

Inclusive of all taxes

Delivery by: 8th Oct - 12th Oct

Also Available On

डॉ. राजेश्वर उनियाल

भारत के माननीय राष्ट्रपति से सम्मानित हिन्दी साहित्यकार डॉ. राजेश्वर उनियाल का जन्म 26 अक्टूवर 1959 को श्रीनगर गढ़वाल (उत्तराखण्ड) में हुआ । आपने पत्रकारिता में स्नातकोत्तर तथा हिन्दी व अंग्रेजी में एम.ए. करने के साथ ही मुंबई विश्वविद्यालय से हिन्दी लोक-साहित्य में पी-एच.डी.की उपाधि भी प्राप्त की है । आपकी  शैल सागर, मैं हिमालय हूँ , उत्तरांचल की कविताएं (सं) व Mount ञ Marine - काव्यकृतियां, पंदेरा व भाडे का रिक्शा - उपन्यास, उत्तरांचल की कहानियां(सं), डरना नहीं पर... कहानियाँ, तीलू रौतेली-नाटक एवं उत्तरांचली लोक-साहित्य व हिन्दी लोक साहित्य का प्रबंधन आदि बारह साहित्यिक पुस्तकों के साथ ही ग्यारह वैज्ञानिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं ।  आपको  माननीय राष्ट्रपति, महाराष्ट्र राज्य हिन्दी साहित्य अकादमी, व भारत सरकार का डा.राजेन्द्र प्रसाद पुरस्कार तथा 35 अन्य पुरस्कार प्राप्त हुए हैं । आप एक ओजस्वी वक्ता, कवि व कुशल मंच संचालक के साथ ही सामाजिक, लोक साहित्य व राजभाषा विषय के विशेषज्ञ के रूप में कई संस्थाओं आदि के अतिथि वक्ता भी हैं । आपके आकाशवाणी, दूरदर्शन एवं निजी चैनलों से कई गीत, कविताएं, वार्ताएं, साक्षात्कार  व कार्यक्रम प्रसारित होते रहते हैं । आपके हिन्दी एवं उत्तराखण्डी (गढ़वाली, कुमाऊँनी) की कई फिल्मों व एलबमों में  गीत व कहानियॉ प्रदर्शित हुई  हैं । वर्तमान में आप मुंबई में भारत सरकार के अंतर्गत उप निदेशक (राजभाषा) के पद पर कार्यरत हैं एवं मुंबई सहित राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की कई साहित्यिक, सामाजिक व सांस्कृतिक संस्थाओं में सक्रिय हैं । इसी के साथ आप महाराष्ट्र राज्य हिन्दी साहित्य अकादमी के सदस्य भी हैं । uniyalsir@gmail.com/9869116784/8369463319

 

Read More...