Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Prakriti ki Pratikriti / प्रकृति की प्रतिकृति

Author Name: Dr. Anupama Sharma 'Anubhav' | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

“जब - जब मनुष्य इस धरती को आतंकित करता है। ये धरती खुद को संतुलित करती है अपने इक अलग अंदाज़ में।  कभी सुनामी लाती है, कभी विशालकाय भूकंप। कभी भयंकर तूफान आते है और मानव को उसकी वास्तविक औकात याद दिलाते है। इस वर्ष  प्रकृति कि लाठी कोरोना महामारी बन कर आयी है।”

 

यह पुस्तक एक साथ 7 कहानियों का संग्रह है। हर कहानी वास्तविक जीवन के कथानक से ली गई है। 10 साल की अवधि में ये पात्र मेरे सामने आए। हर कहानी अनोखी होती है, इसे "भगवान द्वारा लिखित, मेरे द्वारा रचित " कहा जा सकता है। इन कहानियों  के  पात्र वास्तविक हैं, उनकी कहानी मेरी कल्पनाओं के सार के साथ अभिभूत हुई है। हर कहानी भारतीय परिदृश्य में एक महिला के जीवन संघर्ष को व्यक्त किया गया है। पात्र वर्तमान युग के हैं, लेकिन उनका संघर्ष युगप्रतिष्ठ है। इन कहानियों की प्रमुख नायिका स्वयं प्रकृति हैं। मेरा मानना ​​है कि उनके द्वारा रचित हर कहानी अलग-अलग परिस्थितियों के साथ एक ही परिदृश्य में चित्रित हुइ है। यह शीर्षक स्वयं को परिभाषित करता है "प्रकृति की प्रतिकृति" या मातृ प्रकृति का अवतरण। मेरा मानना ​​है कि हर महिला में स्वयं माँ भगवती की आत्मा वास करती है।

Read More...
Paperback
Paperback 200

Inclusive of all taxes

Delivery by: 2nd May - 5th May

Also Available On

डॉ। अनुपमा शर्मा 'अनुभव'

मैं एक महिला हूँ, अथाह ऊर्जा का भंडार और स्वयं इश्वर की संसार रचना का आधार। मैं दिल से एक कवित्री और पेशे से असिस्टेंट प्रोफेसर हूँ  । जीवन जिस नारी के उदर से आरम्भ होता है, उसी प्रकृति की अभिव्यक्ति हूँ। लिखना मेरा जुनून है। यह मेरे पिता की ओर से मुझे एक उपहार है, मेरे लेखन में उनकी ऊर्जा भी शामिल है, और चेतना भी । मैं कविताएँ और गद्य दोनों लिखती हूँ, मैंने 12 साल की उम्र से लिखना शुरू किया था । जैसे ही पात्र मेरे संपर्क में आए, मैंने कहानियाँ लिखना शुरू कर दिया। मेरा मानना ​​है कि एक कवि हवा के वेग को महसूस कर सकता है, और उसका सार भी। क्यूंकि ये सारा संसार प्रकृति की एक मधुरं कविता है, जिसका प्रत्येक वर्णन काव्य के अलग अलग रंगों से रंगा हैं।

Read More...