Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Sampoorn Khagolaganit / संपूर्ण खगोलगणित अनेक निदर्शक उदाहरणों सहित / Anēka nidarśaka udāharaṇōṁ sahita

Author Name: Manohar Narayan Purohit | Format: Paperback | Genre : Educational & Professional | Other Details

संपूर्ण सूर्यमंडल का रहस्य आप के हाथ में !!!

ग्रहगति का रहस्य जानने के लिये मयासुर को कठिण तपस्या करनी पडी थी ! और ‘सूर्यसिद्धांत’ का जन्म हुआ। आर्यभट, वराहमिहिर जैसे महान विद्वानों ने इस रहस्य को जनसामान्यों को समझाने के लिये आर्यभटीयम, पंचसिद्धांतिका जैसे ग्रंथोंका निर्माण किया। न्यूटन, गेलिलियो, केप्लर जैसे वैज्ञानिकों ने ग्रह गणित में अनेक खोज किये और प्रिंसिपिया मॅथिमेटिका लिखा गया। फिर भी विषय की जटिलता और अपनी भाषा में न होने के कारण सामान्य जन इस ज्ञान से वंचित रहे !

अब इस जटिल विषय के ज्ञान को सभी तक पहुँचाने के सदुद्देश ले कर सरल हिंदी भाषा में यह ग्रंथ प्रकाशित करने में अतीव संतोष हो रहा है।  

Read More...
Paperback
Paperback 650

Inclusive of all taxes

Delivery

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

मनोहर नारायण पुरोहित

श्री मनोहर नारायण पुरोहित का जन्म कर्नाटक (१९४०) में हुआ और सोलापुर (महाराष्ट्र) में स्थित हैं।  आप निवृत्त सिविल इंजिनियरी के  प्राध्यापक हैं और अप्लाइड मेकॅनिक्स और स्ट्रक्चरल मेकॅनिक्स आप के अध्यापन के विषय रहे हैं। आप इंस्टिट्यूट ऑफ इंजिनीयर्स, इंडिया (IEI) और इंडियन सोसायटी फॉर टेक्निकल टीचर्स (ISTE) के लाइफ मेम्बर  हैं।

संगीत, खगोलगणित, ज्योतिष्य, संस्कृत और कन्नड साहित्यवाचन आप के प्रिय विषय हैं। आप बहुमुखीय संगीतज्ञ हैं और सितार, संतूर, बाँसुरी, हार्मोनियम, तबला इत्यादि वाद्य बजाने में सक्षम हैं। 

ज्योतिष्य में आप को ‘ज्योतिष्य विशारद’ और ‘ज्योतिष्यशास्त्री’ तथा संगीत में ‘संगीतअलंकार’ और ‘संगीतकलारविंद’ की उपाधियाँ प्राप्त हैं।  

आपकी ‘ए गाइड टु अ‍ॅस्ट्रॉनॉमिकल कॅल्क्युलेशंस’ और ‘पाइथॉन प्रोग्रॅम्स फॉर अ‍ॅस्ट्रॉनॉमिकल सोल्युशंस’ ये दो पुस्तकें प्रसिद्धी पा चुकी हैं और सर्वतः उनकी प्रशंसा हुई है। हाल ही में आप को खगोलगणित के क्षेत्र में योगदान के लिये ‘अभिनव वराहमिहिर’ की उपाधी से सम्मानित किया गया। 

Read More...