10 Years of Celebrating Indie Authors

Share this book with your friends

Shani Chalisa With Meaning / शनि चालीसा अर्थ सहित चालीसा सिद्ध करने की विधि

Author Name: Guru Gaurav Arya | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

शनि चालीसा का अर्थ है भगवान् शनि देव का वर्णन करना उस वर्णन से शनि प्रसन्न होते है । यहाँ पर चालीसा का अर्थ है की अगर नियम अनुसार चालीस दिनों तक नियम अनुसार शनि चालीसा का पाठ किया जाये तो यह शनि चालीसा सिद्ध हो जाती है।  जब कोई भी भक्त शनि चालीसा का नियम से चालीस दिन तक पठन करता है तो वह सिद्ध हो जाती है और सिद्ध होने का अर्थ है की भक्त को शनि देव का विशेष स्नेह प्राप्त हुआ है। या यूँ कहें की भक्त जिस कार्य के लिए चालीसा का पठन कर रहा है उस कार्य में उसको सफलता प्राप्त होना। वैसे तो कोई भी चालीसा को चालीस दिन तक नियमनुसार पढ़ने से ही वह सिद्ध हो जाती है। शनि चालीसा में एक-एक श्लोक को अर्थ सहित पुस्तक में समझा रहा हूँ। शनैश्चर के शरीर की कान्ति इंद्रनीलमणि के समान है। इनके सिर पर स्वर्णमुकुट, गले में माला तथा शरीर पर नीले रंग के वस्त्र सुशोभित हैं। शनि गिद्ध पर सवार रहते हैं। ये हाथों में धनुष, बाण, त्रिशूल और वरमुद्रा धारण करते हैं। एक अन्य रूप में शनि देव काले रंग में, एक तलवार, तीर और दो खंजर लिए हुए है और वे अधिकतम एक काले कौए पर सवार होते हैं।

Read More...
Paperback
Paperback 90

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

गुरु गौरव आर्य

गुरु गौरव आर्य भारतीय ज्योतिष एवं अनुसंधानकर्ता है।  उन्होंने आध्यात्मिक एवं सेल्फ हेल्प पुस्तकों का लेखन किया है जिसमे श्री शनि संहिता, टॉप मिस्टेक्स ऑफ़ पेरेंट्स प्रमुख पुस्तक है। अपने करियर के शुरूआती दिनों में गुरु गौरव मैकेनिकल डिज़ाइन इंजीनियर रह चुके है। काफी सारी मशीन आदि को डिज़ाइन करने के उपरांत वह ज्योतिष के क्षेत्र में आये क्यूंकि इस क्षेत्र से विशेष लगाव था कारणवश इस क्षेत्र में अपना काम शुरू किया और लोगो को ज्योतिष के माध्यम से जानकारी दी। 

२०१८ में मुख्यमंत्री उत्तराखंड में गुरु को ज्योतिष विभूषण से सम्मानित भी किया।  गुरु पॉलिटिकल ज्योतिषी है को सरकार बनने की भविष्यवाणी भी करते है।  

Read More...