Hindi

Nadi aur kinara
By vega in Poetry | Reads: 79 | Likes: 0
Ek kinare ki kahani batati hoon, Kehnke ko kisse bohot hain,  iski unkahani batein kehti hoon. Durr pahadiyon se tezzi se behkar  ek jagah nadi haule haule chalti thi, Ek jagah subh suhane aur shaam mastani hoti thi. Wo nadi ka kinara tha jahan ki nazare beshumar khubsurat hua karti thi.   Read More...
Published on May 16,2020 07:16 PM
Vo Maa Hai
By Sakshi Singh in Poetry | Reads: 80 | Likes: 0
Vo khud Sara Din Bhukhi Rehkar Tumhe Apna Nivala Khilayegi....  Read More...
Published on May 16,2020 11:49 PM
Ek talaq
By Minhaj in Romance | Reads: 104 | Likes: 0
बीवी ने धमकी दी थी के अगर आज सब्ज़ी लाना भूला तो चने खाके सोना पड़ेगा.. इस लिए office नमक जेल से भाग के जब में मार्किट में स  Read More...
Published on May 17,2020 12:48 AM
Mere 2 bête hai
By Minhaj in Fantasy | Reads: 138 | Likes: 0
 विजय आजकल बोहोत दुखी ओर उदास रहता है .. उस का बेटा लकवा कोमा जैसी बीमारी  में है।। उसका इलाज तो चल रहा है. पर उसकी ह  Read More...
Published on May 17,2020 12:52 AM
फिर मुलाकात होगी एक अरसे बाद
By smriti pareek in Poetry | Reads: 111 | Likes: 1
आज फिर मुलाक़ात होगी एक अरसे बाद , कुछ बातों से तुम हस लेना ,  कुछ बातों से हम रो लेंगे ।   कुछ किस्से तुम सुनना ,  कु  Read More...
Published on May 17,2020 08:53 AM
Ghar
By vishesh in True Story | Reads: 85 | Likes: 0
Mein ek chote se kasbe se hun aur hamare yahan Ka ek Rivaz hai ki Hume padhne ke liye , kamane ke liye bahar Jana hi padta hai . Toh aankhon mein sapne liye hum bhi Nikal pade apni manjil talashne ko , khud Ka jahan banana ko . Par humen Kahan maloom tha ki jab wapas aayenge toh ye shahar bhi paraya  Read More...
Published on May 17,2020 09:23 AM
मां गर्म को भी शीतल कर देती है
By JUNJAR MAL KHETARPAL in General Literary | Reads: 100 | Likes: 0
               वह गर्मी वह ममता का प्यार आज शनिवार का दिन था, अक्सर आयुष शनिवार को उपवास किया करता है तो आज भी उ  Read More...
Published on May 17,2020 09:39 AM
खुद से मोहब्बत करके तो देखें
By The Thought Saga in Poetry | Reads: 136 | Likes: 0
ता उम्र बस दूसरों से मोहब्बत करते आए हैं  कभी खुद से मोहब्बत करके तो देखें   औरों के लिए ठंडी छांव बने हैं  कभी ख  Read More...
Published on May 17,2020 01:11 PM
एक छोटा सा ब्रेक ? या ब्रेक अप ??
By Anshuman Khurjekar in Romance | Reads: 204 | Likes: 3
रिश्ता पौधे की तरह होता है। ..उसे मौसम के हिसाब से सींचना सवारना पड़ता है।  एक   रिश्ते में हम क्या चाहते है ? प्या  Read More...
Published on May 17,2020 01:38 PM
वो रोज़ का सफर
By The Thought Saga in Poetry | Reads: 115 | Likes: 0
वो रोज़ का सफर वो रोज़ आने जाने का रास्ता वो रोज़ एक ही मंजिल वो रोज़ की एक ही दास्तान  वो रोज़ उन्हीं लोगों से मिलन  Read More...
Published on May 17,2020 01:40 PM
रुबरु
By Kritika Bherviya in Poetry | Reads: 99 | Likes: 1
आज हम रूबरू हुए , उस शक्श से रूबरू हुए , मानो लगा ज़िन्दगी मुक्कमल सी हो गई ।।   हा आज हम खुद से रूबरू हुए , जो महज़ एक सपन  Read More...
Published on May 17,2020 02:32 PM
सुबह हो गयूी
By sneh goswami in True Story | Reads: 127 | Likes: 0
नयी सुबह हो गयी   भगवान आदित्य ने अपना रथ धरती की ओर मोङ दिया । आकाश और धरती ने भास्कर की अगवानी में रतनारी रंग का क  Read More...
Published on May 17,2020 03:03 PM
सफर से मिली एक सिख
By priyanka agarwalla in True Story | Reads: 76 | Likes: 0
सफर कर रही थी एक बार ट्रेन में, आके बैठा एक आदमी मेरे बगल में| दंग थी उसे में देख केे, कैसे बैठ गया वह,जब खड़ी थी उसकी पत्  Read More...
Published on May 17,2020 03:36 PM
KHAMOSH
By akash in Poetry | Reads: 141 | Likes: 0
Khaamosh hai woh chup si, woh shaant ho kar reh gayi Aawaz uske jism mein hi qaid ho kar reh gayi Sannata bhi shor jaisa ab hai mujhko lag raha Hawas ki bhent dekho kaise insaan chadh raha Beti thi woh, woh maa bhi thi, behan thi woh laadli Balatkaar kar unhone rooh bhi hai maar di Cheekhti woh , bh  Read More...
Published on May 17,2020 03:36 PM
जीवन में सफलता के मंत्र
By ramashery in General Literary | Reads: 89 | Likes: 0
संसार में सभी व्यक्ति अपने जीवन  में सुख शांति धन वैभव पाने के लिए जन्म से लेकर मृत्यु तक हमेशा संघर्ष करता है उ  Read More...
Published on May 17,2020 03:57 PM