Hindi

My mysteries love life
By Antima sharma in True Story | Reads: 85 | Likes: 1
Ye kahani bhi mere title ki tarah hi ek mystry hi hai....kuch log hote h shayad meri tarah b jinka na koi dost na koi sathi na koi supprotive vo apne me hi jiye jate h bas. Or ek time aisa aata h jab vo bas kho se jate h apni life me. Dusro ko dekh kr jeena chahte h unki tarah lekin jee nhi pate bas  Read More...
Published on May 17,2020 07:53 PM
!! कोरोना से जंग .
By kamran khan in Poetry | Reads: 86 | Likes: 0
कोरोना से जंग लड़ने को है हम सब तैयार । पहले आपस में बांट लो बहुत सारी मोहब्बत फिर कर लेना हिंदू मुस्लिम मेरे यार। मो  Read More...
Published on May 17,2020 08:00 PM
कोरोना की शाम
By varun khandelwal in Poetry | Reads: 87 | Likes: 0
आजकल सड़कें वीरान हैं लेकिन गौर फरमाइये घरों में जान है थोड़ा थोड़ा घर और थोड़ा थोड़ा काम है पिता और पुत्र का साथ साथ व्य  Read More...
Published on May 17,2020 08:03 PM
मजदूर या मजबूर
By Abhishek Gaukhede in True Story | Reads: 110 | Likes: 0
जिस मजबूरी से हमनें खुद को घर मे कैद कर लिया , उसी मजबूरी ने उसे चलने पर मजबूर कर दिया, मिलौ मिलौ का फासला उसने कदमों स  Read More...
Published on May 17,2020 08:13 PM
Ab toh yaad aane lagi hai
By Tarannum in Poetry | Reads: 106 | Likes: 0
Wo Muskurate lamhe nigahein dohrane lagi hainAye mere mehboob...Ab toh yaad aane lagi haiKhilkhilati hasi teri mere dil ko rulane lagi haiAye mere dildar...Ab toh yaad aane lagi haiWo bewajah si baatein teriAb wajah samjhane lagi hainAye mere humraz ...Ab toh yaad aane lagi haiWo shararatein jo sang  Read More...
Published on May 18,2020 12:04 AM
भोर (नींद का स्वप्न)
By Rajni Goswami in True Story | Reads: 111 | Likes: 0
यूं ही बालों की गूंथन को खोलते हुये चिड़चिडा रही थी, 'आज समय ही नहीं मिला की इनको संवार लेती' कुछ दिनों से सुगंध की तब  Read More...
Published on May 18,2020 08:32 AM
वक्त का खेल
By Arnab Sarkar in Poetry | Reads: 209 | Likes: 0
यह वक्त का खेल तो देखो। अब बस घर में ही रहो। तुमने जो की थी साजिश समय से। संभल जाओ, यही समय रहते।। यह वक्त का खेल तो दे  Read More...
Published on May 18,2020 12:07 PM
वक्त जो मिल न सका तुमसे
By Numesh Bhatt in True Story | Reads: 109 | Likes: 0
अब वक्त बीत चुका है, तुम बहुत दूर चली गयी हो लेकिन मेमेरे दिल में एक सुनहरी याद बनकर तुम हमेशा रहोगी ये तो रीत है जिं  Read More...
Published on May 18,2020 12:13 PM
मैं जीवन हूँ
By Preeti Agrawal in Poetry | Reads: 79 | Likes: 0
  मैं जीवन हूँ मैं जीवन हूँ कि, जीवन है मुझमेंसीख रही हूँ और मगन हूँ तुझमेंसमझ ना सकूँ, वो गहराई है तूझमेंमहसूस कर ल  Read More...
Published on May 18,2020 04:08 PM
बेहतर है लौकडाउन
By Preeti Agrawal in Poetry | Reads: 79 | Likes: 0
बेहतर है लौकडाउन क्यों घबरा रहे हैं लोग सोच के,फिर बढ़ा है लौकडाउनसमझने की बात है, हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहतर है ल  Read More...
Published on May 18,2020 04:15 PM
TWO COUNTRY (LONG DISTANCE RELATIONSHIP LOVE STORY)
By sakshi singh in True Story | Reads: 109 | Likes: 0
LONG DISTANCE RELATIONSHIP TWO COUNTRIES     Ye prem kahaani hain do log ki jiska ek naam Sakshi or Praveen hai ye dono 5 saala se ek dusre se bahout pyaar karte the. Or inka miona bhi bahout kamaal ka tha. Ye dono 5 saal pehle social site facebook oe mile the. Joki  ye dono regne waa  Read More...
Published on May 18,2020 08:11 PM
जैसी होगी हमारी नज़र, वैसा होगा ज़िन्दगी पर असर
By Sheetal Chitlangiya in General Literary | Reads: 89 | Likes: 1
कोरोना के प्रकोप से ठहर गया है आवागमन,  खिड़की से झांको बाहर प्रकृति  हो रही है चमन।  एकांत में रहना लग रहा है जैस  Read More...
Published on May 18,2020 08:12 PM
मासूम
By Abhishek Gaukhede in True Story | Reads: 104 | Likes: 0
कुछ साल पहले ही तो मैं इस दुनिया मे आया था, दुनिया क्या होती हैं मुझे कहा कुछ मालूम था, मम्मी पापा ही मेरे लिए मेरी दु  Read More...
Published on May 18,2020 08:21 PM
Meri kahani
By sonakshi shende in True Story | Reads: 114 | Likes: 2
Meri kahani! Do log pyaar kare toh unka hamesha sath rehna jaruri toh nahi. Yeh kahani hai meri aur mere hamdard ki. Pyar tha, security thi, trust bhi tha, par waqt sahi nahi tha. Me n! Bilkul jab we met ki roop ki tarah. Khudki favourite, kabhi bhi kisi bhi waqt kuch bhi bolna, muskurate rehna, sam  Read More...
Published on May 18,2020 10:15 PM
भागे जारे है वो
By Sidak in Poetry | Reads: 139 | Likes: 0
चल परे वो उन रस्तो पे  जो ले जाए घर उनको  न रुक पाए वो बेगानी जगह  जहा मिलता था उन्हें खाने को  कहते थे वो यही बसन  Read More...
Published on May 18,2020 11:20 PM