কবিতা

Sometimes I want to become ugly,  So people would less notice me...  Sometimes I want to hide myself,  So that they wouldn't find me...  Sometimes I want to talk  বেশি পড়ুন...
309 2 পছন্দ
My Worth
By Anwesha Nayak in Poetry
मै चाहती हूं तू मुझे मुझसे ज़्यादा चाहे टूटू मै तो तू भी बिखर जा  বেশি পড়ুন...
307 0 পছন্দ
मैं चाहती हूं।
By Ruchita in Poetry
 एक रोज हम जुदा हो जाएंगे न जाने कहां खो जाएंगे।  तुम लाख पुकारो  বেশি পড়ুন...
307 3 পছন্দ
प्यार का इजहार
Making friendship with the dense black night She makes world tipsy with her lightened genial smile, Hey, full-moon! Newish daystars head towards the love-sea Pasting  বেশি পড়ুন...
307 3 পছন্দ
Should I call you full-moon?
Misty memories   Sky painted with hues, Azures and blues, Misty with memories, Of wines and vineries,  Of dewdrop glistening lawns, Of countless ascending dawns, O  বেশি পড়ুন...
305 9 পছন্দ
Misty Memories
By Smrita Chaudhury in Poetry
कई बातें थी जो उससे कहनी थी। क्या करूं वो बस एक गलतफहमी।। इक्ती  বেশি পড়ুন...
305 3 পছন্দ
गलतफहमी
By Divya jain in Poetry
अगर मुझसे प्यार करना खता हैं  तों मैं नहीं कहता तू मुझसे प्यार क  বেশি পড়ুন...
304 0 পছন্দ
मैं नहीं कहता
By Shubham Sahu in Poetry
                                                                             साजन आज तुम आन मिलो  বেশি পড়ুন...
304 0 পছন্দ
साजन तुम आज आन मिलो ---
मुस्कुरा दिए  थे तुम, मेरी मुस्कुराहट पे। मुस्कुरा दिए थे तुम, म  বেশি পড়ুন...
303 0 পছন্দ
मुस्कुरा दिए थे तुम।
By Jubika Sharma in Poetry
நீ மரமாக இருந்தால் , உன்னுடைய நிழல் போதும், என்னுடைய நிஜத்திற  বেশি পড়ুন...
303 2 পছন্দ
நீ வருவாய் என
By radhika in Poetry
One day I'll save you. One day you will tell me all of your heart. One day, I will be more than skin and flesh to you. One day, I'll ask you about your favourite so  বেশি পড়ুন...
300 0 পছন্দ
One day I'll save you. One day you will tell me all of
By Alvira Nasir in Poetry
ज़िंदगी के वो पल कितने सुन्हेरे थे जब तुम मेरे थे कितनी सुंदर रा  বেশি পড়ুন...
299 0 পছন্দ
जब तुम मेरे थे
By Manas Shrivastav in Poetry
याद है उसे,वो मुलाकातें।वर्षों बाद तुम्हारे संग,किए कुछ बातें  বেশি পড়ুন...
297 1 পছন্দ
दो मुलाकात
जब से हुआ है तेरा दीदार,  आँखें ढूंढती हैं तुझे ही हर बार,  दिल को  বেশি পড়ুন...
295 1 পছন্দ
इश्क़ का बुखार
mere is pal mein,sath aja Kahi se. Is tute huye Dil ko,aas Bandha ja Kahi se. Tere Jane se Jana h, tere sang beete har. pal k sath nibhana h. Mujhe aj yad aja fir k  বেশি পড়ুন...
294 5 পছন্দ
Mere is pal mein ...
By shikha in Poetry